सोमवार, 27 अप्रैल 2009

एल फॉर ...

kअविता: - एल फॉर

एक दिन मैं सड़क से जा रहा था।
मन में कुछ गुनगुना रहा था ।
इतने में एक सरकारी स्कूल मिला।
सोचा , चलो चलाये टाइम पास का सिलसिला
टीचर अंग्रेजी यूँ पढा रहे थे ,
मनो अंग्रेजी की धज्जिया उड़ा रहे थे।
बोले बच्चो होता है एल फॉर लालटेन
ये सुन मैं हो गया बैचैन
मैंने कहा एल फॉर लाइट के ज़माने में लालटेन पढा रहे हो,
क्या कंप्यूटर युग में भी टाईपराइटर चला रहे हो ।
टीचर बोले - एल फॉर लाइट ही नहीं रहेगी तो कंप्यूटर कंहा से चलेगा ?
जब तक होगी विद्धुत कटौती तब तक हर बच्चा एल फॉर लालटेन ही पढेगा ।
मुकेश पांडे "chandan"

10 टिप्‍पणियां:

  1. टीचर बोले - एल फॉर लाइट ही नहीं रहेगी तो कंप्यूटर कंहा से चलेगा ?
    जब तक होगी विद्धुत कटौती तब तक हर बच्चा एल फॉर लालटेन ही पढेगा ।

    बहुत खूब.....!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. अच्छी रचना है
    स्वागत है आपका ब्लॉग जगत में

    उत्तर देंहटाएं
  3. welcome to the world of bloggers. Its great experience to go through sophisticated thoughts , you expressed.....
    You are requested to contribute with your say on

    http://kabirakhadabazarmein.blogspot.com/

    There is lot more to reveal
    Thanks and Regards
    Kanishka Kashyap

    Content Head
    www.swarajtv.com

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत खूब...

    चिट्ठाजगत में आपका स्वागत है.......भविष्य के लिये ढेर सारी शुभकामनायें.

    गुलमोहर का फूल

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुंदर…..आपके इस सुंदर से चिटठे के साथ आपका ब्‍लाग जगत में स्‍वागत है…..आशा है , आप अपनी प्रतिभा से हिन्‍दी चिटठा जगत को समृद्ध करने और हिन्‍दी पाठको को ज्ञान बांटने के साथ साथ खुद भी सफलता प्राप्‍त करेंगे …..हमारी शुभकामनाएं आपके साथ हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  6. aap sabhi ko meri taraf se hardik aabhar , ki aapne is nacheez ko is ayak samjha.

    उत्तर देंहटाएं

ab apki baari hai, kuchh kahne ki ...

orchha gatha

बेतवा की जुबानी : ओरछा की कहानी (भाग-1)

एक रात को मैं मध्य प्रदेश की गंगा कही जाने वाली पावन नदी बेतवा के तट पर ग्रेनाइट की चट्टानों पर बैठा हुआ. बेतवा की लहरों के एक तरफ महान ब...