रविवार, 3 मई 2009

चिकल्लस

चिकल्लस
एक बुजुर्ग एक बच्चे को दुलार रहे थे ।
मेरा चिकल्लस , मेरा चिकल्लस पुकार रहे थे ।
मेरा चिकल्लस सुन मुझे हैरानी हुई ।
बच्चे का नाम चिकल्लस ये कैसी कहानी हुई ।
बुजुर्ग - मेरी बेटी विदेश गयी थी पढने अकेली।
अपनी डिग्री के साथ ले आयी ये पहेली ।
अब उसके साथ साथ ये मेरे लिए भी चिकल्लस बन गया ।
बस इसी तरह इसका नाम चिकल्लस पड़ गया ।
मैंने सोचा अगर बेटियाँ इसी तरह विदेश जायेंगी अकेली ।
और अपने साथ लेके आयेंगी चिकल्लस की पहेली।
तो आगे का ज़माना कुछ और होगा ।
शायद वो चिक्ल्ल्सो का दौर होगा !!

आपका ही मुकेश पांडे ' चंदन '

2 टिप्‍पणियां:

  1. यह तो चकल्लस ही है. इस तरह के चकल्लस देसी भी होते हैं. बहुत मजा आया. आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपके ब्लॉग में टिपण्णी करने के लिए वर्ड वेरिफिकेशन का झमेला है. इसे तुंरत हटा दीजिये नहीं तो कोई टिपण्णी करने नहीं आएगा. इस टिपण्णी को भी हटा दें.
    http://mallar.wordpress.com

    उत्तर देंहटाएं

ab apki baari hai, kuchh kahne ki ...

orchha gatha

बेतवा की जुबानी : ओरछा की कहानी (भाग-1)

एक रात को मैं मध्य प्रदेश की गंगा कही जाने वाली पावन नदी बेतवा के तट पर ग्रेनाइट की चट्टानों पर बैठा हुआ. बेतवा की लहरों के एक तरफ महान ब...