सोमवार, 29 जून 2009

पहली फुहार

मन को भिगो गई पहली फुहार
धरती पर बरस पड़ा, बादलों का प्यार
मेघो से न देखि गई, वसुधा की तपन
तर-बतर करके किया जल अर्पण
रिम झिम बूंदों में, मन मयूर सा नाचा
भीगकर सबने, राग मल्हार बांचा
सूनी आंखे भर आई , ख़त्म हुआ इंतजार
मन को भिगो गई पहली फुहार
किसान काका की आँखों में आई चमक
गरजे बादल , जब हुई बिजली की दमक
पानी नही उनके लिए अमृत बरसा
आओ झूमे ,नाचे, मिलके करे जलसा
पर याद रखना , पानी है जीवन का आधार
कल भी ये बरसे , मत जाने दो इसे बेकार
सभी लोगो को मानसून की पहली वारिश मुबारक हो ! दोस्तों इस बार मानसून जरा देर से आया है अगर हम पानी को न सहेजे तो हो सकता है कल मानसून आए ही न ! अतः सभी लोगो से करबद्ध निवेदन है की इस बार पानी को ज्यादा से ज्यादा जमीन में पहुचने की कोशिश करे । चाहे वो रेन वाटर हार्वेस्टिंग हो या कोई अन्य तरीका पर अपनी अगली पीढी के लिए पानी बचाए , जल है तो कल है !
- आपका स्नेहिल मुकेश पाण्डेय "चंदन"

6 टिप्‍पणियां:

  1. जल है तो कल है -सुन्दर संदेशा!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. सूनी आंखे भर आई , ख़त्म हुआ इंतजार
    मन को भिगो गई पहली फुहार
    किसान काका की आँखों में आई चमक
    गरजे बादल , जब हुई बिजली की दमक
    पानी नही उनके लिए अमृत बरसा
    आओ झूमे ,नाचे, मिलके करे जलसा

    वाह....!!!

    मानसून के स्वागत की सुंदर कविता ......!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत बढिया रचना है।बधाई।
    इसी लिए हमने छाता पहले ही खरीद लिआ।:))

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपकी भी बारिश खूबसूरत हैं :-)

    उत्तर देंहटाएं

ab apki baari hai, kuchh kahne ki ...

orchha gatha

बेतवा की जुबानी : ओरछा की कहानी (भाग-1)

एक रात को मैं मध्य प्रदेश की गंगा कही जाने वाली पावन नदी बेतवा के तट पर ग्रेनाइट की चट्टानों पर बैठा हुआ. बेतवा की लहरों के एक तरफ महान ब...