गुरुवार, 18 फ़रवरी 2010

न दिल में हो दूरी

कविता: न दिल में हो कौनो दूरी

लईकी- ऐसन कौन बात बा तहार भजपुरी में
कि काल्ह दुनिया बोली, एकरा के मजबूरी में
लईका -यु० पी० , बिहार के संस्कृति ह ,बड़ा नीक भाषा
दुनिया भर फैलल बा, न ह कौनो तमाशा
राज काज से लेके मनोरंजन तक बा एकरे ही चर्चा
आम आदमी के बानी ह , प्रेम मिलेला बिन खर्चा
गंगा -गंडक ,सोन-घाघरा, सब मिल के डेली आशीष
प्रेम के बोली ह, नईखे एकरा में कौनो खीस
राम, बुद्ध, महावीर के भूमि, देला शांति के सन्देश
हो कतनो बोली, भाषा, भेष , सबके ह ई भारत देश
एगो भज्पुरिया पहले हिन्दुस्तानी ह, फिर यु०पी० बिहारी
मानवता ही धरम हमनी के, करम भी ह हितकारी
बतावा, कैसे न फैले दुनिया में भजपुरी
सबमे हो प्रेम भरल , न हो दिल में कौनो दूरी

3 टिप्‍पणियां:

ab apki baari hai, kuchh kahne ki ...

orchha gatha

बेतवा की जुबानी : ओरछा की कहानी (भाग-1)

एक रात को मैं मध्य प्रदेश की गंगा कही जाने वाली पावन नदी बेतवा के तट पर ग्रेनाइट की चट्टानों पर बैठा हुआ. बेतवा की लहरों के एक तरफ महान ब...