रविवार, 17 जून 2012

कुम्भकार सा कच्चे घड़े को , बाहर से चोट  , भीतर सहारा 
ऊपर से डांट-डपटते, पर दिल में था प्यार कितना सारा 
तब डांट बुरी लगती थी, पर मतलब आज समझ आया 
हर डांट के पीछे एक संदेसा, एक भरोसा था समाया 
सचमुच पिता हमेशा बाहर से कठोर, रहे भीतर से कोमल 
अगर हो जाते बाहर से  भी कोमल , तो कैसे बनाते हमें निर्मल 
बचपन में उनकी डांट -डपट , लगती थी जो बकबक 
आज समझ में आया , कि उनमे था कितना सबक

15 टिप्‍पणियां:

  1. आज समझ में आया , कि उनमे था कितना सबक
    सही कहा आपने ,बहुत सुंदर बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत बढ़िया ...... पिता के मन को समझने में अक्सर देर हो ही जाती है.....

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. मोनिका जी , सच ऐसा ही होता है .शुक्रिया !

      हटाएं
  3. बचपन में उनकी डांट -डपट , लगती थी जो बकबक
    आज समझ में आया , कि उनमे था कितना सबक ,,

    न रहने पर महत्व समझ आता है,,,,,,

    RECENT POST ,,,,,पर याद छोड़ जायेगें,,,,,

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. धीरेन्द्र जी मुझे तो उनके रहने पर ही उनका महत्व समझ में आ गया .

      हटाएं
  4. पिता ऐसे ही होते हैं ... सुंदर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. अक्सर बेटियां ही पिता को समझ पाती है, संगीता जी

      हटाएं
  5. मन कों छू गयी आपकी रचना ... पिता की सही क्षवि उतारी है ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल सोमवार (19-06-2012) के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. शास्त्री जी बहुत बहुत आभार !
      ऐसा ही है पिता का व्यवहार

      हटाएं
  7. इतना सच्चा शब्दचित्र देखकर बस दिल भर आया!! बहुत खूबसूरत अभिव्यक्ति!!

    उत्तर देंहटाएं

ab apki baari hai, kuchh kahne ki ...

orchha gatha

बेतवा की जुबानी : ओरछा की कहानी (भाग-1)

एक रात को मैं मध्य प्रदेश की गंगा कही जाने वाली पावन नदी बेतवा के तट पर ग्रेनाइट की चट्टानों पर बैठा हुआ. बेतवा की लहरों के एक तरफ महान ब...