बुधवार, 19 सितंबर 2012

कांटा लगा !!!!!

 बहुत पहले गणेश चतुर्थी के समय ये कविता लिखी थी , आज आपके सामने प्रस्तुत कर रहा हूँ .

गणेश चतुर्थी के पहले लोग पंडाल सजा रहे थे
लेकिन धार्मिक की जगह , फ़िल्मी गीत बजा रहे थे
बंगले के पीछे कांटा लगा, बुद्धि विनायक  सुन रहे थे
मानो काँटों से बचने के लिए , जाल कोई बुन रहे थे
बेरी के नीचे लगा हुआ था, काँटों का अम्बार
लहूलुहान से गजानन , होके बेबस और लाचार
सोच रहे थे कब अनंत चतुर्दशी आएगी
जाने कब इन  बेरी के काँटों से मुक्ति मिल पायेगी
मुश्किल हो गया , इस लोक में शांति का ठिकाना
नाक में दम कर दिया ,और कहते अगले बरस जल्दी आना
मैं इसी बरस जल्दी जाने की सोच रहा हूँ
अपने फ़िल्मी भक्तों के लिए , अपने आंसू पोछ रहा हूँ
मुझसे भी बढ़कर है , इनके लिए फिल्मे और फ़िल्मी संसार
फिर गणेशोत्सव क्यों मानते , करते क्यों मुझ पर उपकार ?
- मुकेश पाण्डेय 'चन्दन '
गणेश चतुर्थी और पर्युषण पर्व की शुभकामनाएं

13 टिप्‍पणियां:

  1. बढ़िया कटाक्ष....
    झांकी के नाम पर उत्पात ही करते हैं...
    आपको भी शुभकामनाएं.
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    गणेशचतुर्थी की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुंदर प्रस्तुति "कांटा लगा'

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुंदर प्रस्तुति "कांटा लगा'

    उत्तर देंहटाएं
  5. यथार्थ सत्य।
    भयंकर ध्वनि प्रदूषण हो रहा है, भक्ति के नाम पर।

    उत्तर देंहटाएं
  6. यथार्थ सत्य।
    भयंकर ध्वनि प्रदूषण हो रहा है, भक्ति के नाम पर।

    उत्तर देंहटाएं
  7. विघ्न विनाशक खुद आपदा ग्रस्त, बिचारे!

    उत्तर देंहटाएं
  8. जी आजकल भक्ति भी आधुनिकता की शिकार हो गयी है। जो भगवान को भी पसन्द नही आती

    उत्तर देंहटाएं
  9. जी आजकल भक्ति भी आधुनिकता की शिकार हो गयी है। जो भगवान को भी पसन्द नही आती

    उत्तर देंहटाएं

ab apki baari hai, kuchh kahne ki ...

orchha gatha

बेतवा की जुबानी : ओरछा की कहानी (भाग-1)

एक रात को मैं मध्य प्रदेश की गंगा कही जाने वाली पावन नदी बेतवा के तट पर ग्रेनाइट की चट्टानों पर बैठा हुआ. बेतवा की लहरों के एक तरफ महान ब...