मंगलवार, 20 अगस्त 2013

कुछ तसवीरें हमारे पूर्वजों की ....



एक दिन की बात है कि कुछ प्राकृतिक तसवीरें खीचने का बहुत मन हो रहा था , तो मैंने अपना डिजिटल कैमरा और बाइक उठाई और चल पड़ा सागर (मध्य प्रदेश ) के अपने घर से 16  कि मी  दूर स्थित प्राकृतिक और धार्मिक स्थान गढ़पहरा कि ओर... हनुमान जी के मंदिर के लिए प्रसिद्द यह पहाड़ी  स्थान बरसात के समय बहुत खूबसूरत लगता है . ... वहां पहुचकर हमारे पूर्वजो और हनुमान जी के समजातों  ने  मन मोहा तो सोचा क्यों न इन्ही कप अपने कैमरें में कैद किया जाया ...और कुछ प्यारी से तसवीरें आपके लिए लाया हूँ
सबसे पहले जब मैं मंदिर की सीढियों की ओर बढ़ा तो ये  महाशय मेरे हाथ में कैमरा देख कर सामने खड़े हो गये , कि पहले मेरी फोटो खीचो ..फिर आगे जाने दूंगा ...मरता क्या न करता ..इनकी फोटो खीचनी ही पड़ी ....जंगल में बन्दर से बैर थोड़ी ले सकता था !

अब एक कि फोटो खीची तो अगली सीढ़ी पर छोटे उस्ताद बैठे मिले ..अब इन्होने भी कसम खाली थी , कि मैं भी फोटो खिच्वाऊंगा ...लो भाई अब तुम भी खिचवा लो ..कौन सी मेरी रील ख़तम हो रही है ...


लगता है ये महाशय पहले भी कई बार फोटो खिच चुके है , इसलिए स्टाइल में भी है और देखो ...स्माइल भी दे रहे है ...है न !

अरे ..ये क्या हो रहा है ? मैं भी तो देखू ये क्या कर रहे है ? ऐ ...इन्सान की औलाद ..इधर भी बत्ती चमका अपुन भी अमलतास की डाल पे बैठा है ...समझा क्या ?

हुह्ह्ह .....मुझे क्या ....लेना ..मैं लाइम लाइट में नही आने वाला ...मेरी फोटो खीचनी ही थी , तो आते बसंत के मौसम में जब इस पलाश में प्यारे प्यारे फूल खिले थे ..अब आये हो ......मुझे नही खीचनी फोट-वोटो ....मैं चला ...

श... श्ह्ह्ह  आवाज नही ....अभी बिजी हूँ ....कुछ ढूंढ रहा हूँ 

अरे ...देखो मेरी छलांग लगते हुए फोटो लेना .....बिलकुल हीरो स्टाइल में ....ये है जलवा  !

अरे यार ....थोडा से चुक गया ..वरना बड़ी शानदार छलांग लगाई थी... चलो कोई बात नही इसे डिलीट कर देना ..चेहरा नही दिखाऊंगा ..अरे यार समझते नही पीछे देखो ..कितना सुन्दर पेड़ दिख रहा है ...



हाँ ...यही वाला पेड़ .. है न बहुत खुबसूरत नजारा ?



मम्मी ...मम्मी ..देखो ...फोटो खिच रही है ....अपनी भी खिच्वाओ न !

चलो कोई बात ..मम्मी तो तैयार नही ..मेरी ही खीच दो ...ये स्टाइल सही है न  ?                                                तो दोस्तों कैसी लगी ये चित्र मय प्रस्तुति   ?                     


6 टिप्‍पणियां:

  1. वाह ... मस्त लाजवाब फोटो लिए हैं सभी आपने ... ओर वो महाशय भी पोज़ बना बना के खिंचवा रहे हैं ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. किसको मै अच्छा कहूँ ? हर पंक्ति दिल में उतर गयी ,बहुत उम्दा रचना।
    कभी यहाँ भी पधारें।
    सादर मदन
    http://saxenamadanmohan1969.blogspot.in/
    http://saxenamadanmohan.blogspot.in/

    उत्तर देंहटाएं

ab apki baari hai, kuchh kahne ki ...

orchha gatha

बेतवा की जुबानी : ओरछा की कहानी (भाग-1)

एक रात को मैं मध्य प्रदेश की गंगा कही जाने वाली पावन नदी बेतवा के तट पर ग्रेनाइट की चट्टानों पर बैठा हुआ. बेतवा की लहरों के एक तरफ महान ब...