गुरुवार, 11 अक्तूबर 2012

अक्टूबर माह की महानता !

नमस्कार  मित्रो ,
आज एक बात आप सभी से शेयर करना चाहता हूँ , खैर हो सकता है  , आप मेरी बात बातसहमत न हो मगर मेरी बात सुनकर अपनी राय तो दे सकते है . तो मैं ये कहना चाहता हूँ , कि अक्तूबर ( क्वांर -कातिक ) माह में पैदा होने वाले लोग अधिक विशेष होते है . इसका पर्यावरणीय कारण ये है , कि ये महिना संधि काल होता है , मतलब वर्षा ऋतु के जाने का और शीत ऋतु के आने का होता है . अतः वातावरण की सर्वश्रेष्ठ अनुकूल जलवायु और तापमान होता है, जिससे पैदा हुए बच्चे के लक्षणों ( जो दैहिक कोशिकाओ द्वारा नियंत्रित होते है , न कि जनन कोशिकाओ द्वारा नियंत्रित लक्षण , क्योंकि जनन कोशिकाओ के लक्षण तो आनूवंशिक होते है , और माता -पिता से प्राप्त होते है  )  पर विशेष प्रभाव डालते है . हिन्दू मान्यताओ में भी इस काल को पवित्र मान कर इसमें जगत्जननी माँ दुर्गा की आराधना नवरात्री में की जाती है . इस माह में पैदा हुए कुछ महापुरुषों के बारे में जानते है . 
अकबर महान- १५ अक्टूबर १५४२ 
महत्मा गाँधी - २ अक्टूबर १८६९ 
लाल बहदुर शास्त्री - २ अक्टूबर १९०२ 
जयप्रकाश नारायण - ११ अक्टूबर १९०२
अमिताभ बच्चन - ११ अक्टूबर १९४२ 
रेखा - १० अक्टूबर 
शर्मीला टैगोर- २ अक्टूबर 
महराजा  अग्रसेन - १६ अक्टूबर  
जिम्मी कोर्टर ( अमेरिकी राष्ट्रपति  ) - 1 अक्टूबर 
केट विंसलेट (हालीवुड अभिनेत्री  )-5 अक्टूबर 
बिशप डेसमंड टूटू (राष्ट्रपति -द० अफ्रीका )- 7 अक्टूबर 
मेरियन जोन्स (महान एथलीट  )-१२ अक्टूबर   
दीपक चोपड़ा (मेनेजमेंट गुरु )- २२ अक्टूबर 
केटी  पैरी  (हालीवुड गायिका   )- २५ अक्टूबर 
हिलेरी  क्लिंटन (अमेरिकी विदेश मंत्री )- २४ अक्टूबर 
बिल गेट्स ( दुनिया के सबसे अमीर व्यक्ति )-२८ अक्टूबर  
 मित्रो इन पंक्तियों का लेखक भी सौभाग्य से २ अक्टूबर के महान दिन पैदा हुआ था . इसके अलावा अक्टूबर माह से और भी कई विशेष बातें जुडी हुई है.अक्टूबर महत्त्व  को  इस लिंक पर भी आप देख सकते है . 
तो भैया सबको ram ram !
































6










































































 

























































 
















































































 

4 टिप्‍पणियां:

ab apki baari hai, kuchh kahne ki ...

orchha gatha

बेतवा की जुबानी : ओरछा की कहानी (भाग-1)

एक रात को मैं मध्य प्रदेश की गंगा कही जाने वाली पावन नदी बेतवा के तट पर ग्रेनाइट की चट्टानों पर बैठा हुआ. बेतवा की लहरों के एक तरफ महान ब...