रविवार, 10 जून 2018

एक किला जहाँ पूरी बारात ही गायब हो गयी


बुंदेलखंड भारत के इतिहास में एक उपेक्षित क्षेत्र रहा है, जब हम भारतीय इतिहास को पढ़ते हैं ,तो हमें बुंदेलखंड के बारे में बहुत कम या कहें की नाम मात्र की ही जानकारी मिलती है । जबकि बुंदेलखंड की धरती वीरभूमि रही है यहां पर समय समय पर वीर पैदा हुए । बुंदेलखंड की बात चले और हम बुंदेला शासको के  दिनों को याद ना करें यह तो संभव ही नहीं क्योंकि बुंदेले ने  ही तो बुंदेलखंड की स्थापना की ।

                                                      मैंने अपनी ओरछा गाथा सीरीज  में बुंदेलखंड की स्थापना का जिक्र किया है, और बुंदेलखंड की पहली राजधानी बनने का गौरव टीकमगढ़ जिले में स्थित गढ़कुंडार नामक स्थान को प्राप्त हुआ है । बुंदेलों की राजधानी बनने के पूर्व गढ़ कुंडार खंगार वंश की राजधानी रहा और खंगार वंश के प्रतापी राजा खेत सिंह (10 वी सदी )  ने स्थान का पल्लवन पुष्पन किया । राजा खेतसिंह खंगार पृथ्वीराज चौहान के सेनापति रहे थे , उन्होंने पृथ्वीराज की तरफ से कई युद्धों में वीरता का परिचय दिया था , इसी से खुश  होके  पृथ्वीराज ने उन्हें गढ़कुंडार की रियासत प्रदान की।  मुहम्मद गोरी से पृथ्वीराज की हार  बाद  खेतसिंह ने स्वयं को स्वतंत्र शासक घोषित कर दिया था। 14 वी सदी में  खंगारों से छीनकर बुंदेला शासकों ने गढ़कुंडार को अपनी राजधानी बनाया ।
                                    वर्तमान में गढ़ कुंडार मध्य प्रदेश के टीकमगढ़ जिले में निवाड़ी तहसील के अंतर्गत आता है । यह झांसी छतरपुर सड़क मार्ग पर निवाड़ी से 25 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है जबकि झांसी से इसकी दूरी लगभग 58 किलोमीटर है । यहां का नजदीकी रेलवे स्टेशन निवाड़ी है । जो झांसी मानिकपुर रेलवे लाइन पर स्थित है । वर्तमान में गढ़ कुंडार एक छोटा सा कस्बा है और यहां पर दर्शनीय स्थलों में गढ़कुंडार का प्रसिद्ध किला गीद्द वाहिनी का मंदिर तालाब आदि देखने योग्य स्थल हैं । शासन की उपेक्षा के कारण यहां पर बहुत कम लोग ही आते हैं । हां प्रतिवर्ष दिसंबर माह में 27 से 29 दिसंबर तक मध्य प्रदेश शासन द्वारा तीन दिवसीय गढ़ कुंडार महोत्सव का आयोजन किया जाता है । यह महोत्सव भी खंगार जाति का महोत्सव बनकर रह गया है , जबकि से पर्यटन गतिविधियों के साथ जोड़कर और अधिक सफल बनाया जा सकता था ।
अब किले  के कुछ इतिहास पर नजर डाली जाए ।

किले का इतिहास

-यह किला चंदेल काल में चंदेलों का सूबाई मुख्यालय और सैनिक अड्डा था।
- यशोवर्मा चंदेल (925-40 ई.) ने दक्षिणी-पश्चिमी बुंदेलखंड को अपने अधिकार में कर लिया था।
- इसकी सुरक्षा के लिए गढ़कुंडार किले में कुछ निर्माण कराया गया था।
- इसमें किलेदार भी रखा गया। 1182 में चंदेलों-चौहानों का युद्ध हुआ, जिसमें चंदेल हार गए।
- इसमें गढ़कुंडार के किलेदार शियाजू पवार की जान चली गई।
- इसके बाद यहां नायब किलेदार खेत सिंह खंगार ने खंगार राज्य स्थापित कर दिया।
- 1182 से 1257 तक यहां खंगार राज रहा। इसके बाद बुंदेला राजा सोहन पाल ने यहां खुद को स्थापित कर लिया।
- 1257 से 1539 ई. तक यानी 283 साल तक किले पर बुंदेलों का शासन रहा।
- इसके बाद यह किला वीरान होता चला गया। 1605 के बाद ओरछा के राजा वीर सिंह देव ने गढ़कुंडार की सुध ली।
- वीर सिंह ने प्राचीन चंदेला युग, कुठारी, भूतल घर जैसे विचित्र तिलिस्मी गढ़ का जीर्णोधार कराकर गढ़कुंडार को किलों की पहली पंक्ति में स्थापित कर दिया।
- 13वीं से 16 वीं शताब्दी तक यह बुंदेला शासकों की राजधानी रही।
- 1531 में राजा रूद्र प्रताप देव ने गढ़ कुंडार से अपनी राजधानी ओरछा बना ली।

घूमने आई पूरी बारात में हो गई थी गायब..
- बताया जाता है कि काफी समय पहले यहां पास के गांव में एक बारात आई थी। बारात में शामिल 50 से 60 लोग किला घूमन आए। यहां वे किले के अंडरग्राउंड वाले हिस्‍से में चले गए। नीचे गए सभी लोग आज तक वापस नहीं लौटे। इसके बाद भी कुछ इस तरह की घटनाएं हुईं। इन घटनाओं के बाद किले के नीचे जाने वाले सभी दरवाजों को बंद कर दिया गया। किला बिल्‍कुल भूल-भुलैया की तरह है। अगर जानकारी न हो तो ज्‍यादा अंदर जाने पर कोई भी खो सकता है। भूलभुलैया और अंधेरा रहने के कारण दिन में भी यह किला डरावना लगता है।
- गढ़कुंडार को लेकर वृन्दावनलाल वर्मा ने उपन्यास भी लिखा  है। इस उपन्यास  में गढ़कुंडार के कई रहस्य दर्ज किए गए हैं।

                                    गढ़ कुंडार इतिहास प्रेमियों के लिए आज भी आकर्षित करता है और इसी आकर्षण में बंद कर मैं अभी तक 5-6   बार इस जगह जा चुका हूं । यह किला अपनी खूबसूरती के साथ-साथ महत्वपूर्ण सुरक्षा व्यवस्था के लिए जाना जाता है । ऊंचाई पर बने इस किले से आसपास का बहुत ही सुंदर नजारा दिखाई देता है । किले का निर्माण सामने एक पहाड़ी के सापेक्ष इस तरह किया गया है , कि जब हम सड़क मार्ग से किले की ओर आते हैं , तो दूरी पर किला नजर आता है । जैसे जैसे ही हम उसके नजदीक पहुंचते हैं यह दिखाई देना बंद हो जाता है । ऐसा कहा जाता है, कि यह किला सात मंजिला है , जिसमे जमीन  ऊपर तीन मंजिल है, और चार मंजिल जमीन के नीचे बने है।  हालाँकि   दरवाजे सुरक्षा की दृष्टि से बंद कर दिए गए है।  गढ़कुंडार का किला बौना चोर के लिए भी प्रसिद्ध रहा है । कहते है कि उसकी लंबाई 52 अंगुल (साढ़े तीन फुट ) थी, इसलिए उसे बौना चोर कहते थे । कुछ लोग उसका नामकरण 52 चोरियों की वजह से कहते हैं । कहा जाता है कि बोना चोर एक ऐसा चोर था जिससे तत्कालीन समय का बुंदेलखंडी रॉबिनहुड कहा जा सकता है । यह धनाढ्य व्यक्तियों को पहले से चेतावनी देता था , कि वह उसके यहां चोरी करेगा और उनकी तमाम सुरक्षा व्यवस्थाओं को चकमा देकर वह चोरी करने में सफल हो जाता था । धनाढ्यों से लूटे गए धन से वह गरीबों और जरूरतमंदों की मदद भी करता था  । इसलिए वह क्षेत्र में लोकप्रिय था।  बौना चोर धन के  लिए धन लोलुप लोगों किले में बहुत खुदाई भी की है।  फ़िलहाल किले की सुरक्षा के लिए मध्य प्रदेश पुरातत्व विभाग ने प्राइवेट सुरक्षा एजेंसी के कुछ गार्ड नियुक्त किये है , जो दिन में आने वाले लोगो के लिए गाइड का भी काम करते है।   
                            गढ़कुंडार में ही गिद्धवाहनी देवी का मंदिर है।  गिद्ध वाहिनी मंदिर मूलतः विंध्यवासिनी देवी का मंदिर है । उत्तर प्रदेश के मिर्जापुर जिले के विंध्याचल में स्थित विंध्यवासिनी देवी बुंदेलों की कुलदेवी हैं । ऐसी मान्यता है , कि  विंध्यवासिनी ही  बुंदेलों की सहायता करने के लिए विंध्याचल से गिद्ध पर बैठकर गढ़कुंडार आई इसलिए उन्हें यहां पर गिद्ध वाहिनी कहा गया । गिद्धवाहिनी मंदिर के बाहर एक बहुत ही खूबसूरत गिद्ध की प्रतिमा की बनी हुई है । साथ ही मंदिर से लगा हुआ एक बड़ा तालाब है जो इस जगह की खूबसूरती में चार चांद लगा देता है । इस तालाब में सर्दियों में कई प्रकार के प्रवासी पक्षी भी आते है।  हालाँकि पिछले कई सालों  के सूखे के कारण हाल -बेहाल है।
बुंदेलखंड के अन्य दर्शनीय स्थल -
ओरछा
देवगढ़
टीकमगढ़
दतिया
झाँसी
खजुराहो
पन्ना
कालिंजर


गढ़कुंडार किले का प्रवेश द्वार ( हालाँकि दरवाजा नया लगा है ) 
प्रवेश द्वार  से दिखता किला 
किले का एक बुर्ज 
किले में प्रवेश करते ही बनी भूलभुलैया 

किले की भूलभुलैया में में रोशनी के लिए छत में रोशनदान बने है।  (अभी सुरक्षा की दृष्टि से जाली लगाई गयी है।  ) 
किले की दीवार पर शुकदेव जी 
किले का जर्जर हिस्सा 

किले के अंदर का विहंगम दृश्य 
किले की सबसे ऊपरी मंजिल 
किले से शाही प्रवेश द्वार का रास्ता 
किले के पास बनी प्राचीन बाबड़ी  जो कभी किले वासियों की प्यास बुझती होगी।  
छत पर बनी डिजायन  
किले से दिखता गिद्धवाहिनी मंदिर और सूखा पड़ा तालाब 
गढ़कुण्डार के तालाब में प्रवासी पक्षी 
सुधा घर्षण यन्त्र (जिसका आज भी पुनर्निर्माण में प्रयोग होता है।  )

45 टिप्‍पणियां:

  1. उत्तर
    1. आप तो लंबी रेस के घोड़े हो । तो बस दो शब्द ही क्यों ?

      हटाएं
  2. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन, ८ जून को मनाया गया समुद्र दिवस “ , मे आप की पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    जवाब देंहटाएं
  3. संक्षिप्त विवरण पर बहुत अच्छा सर जी

    जवाब देंहटाएं
  4. Great information. I never been to Jhansi, Orachha or this area.

    जवाब देंहटाएं
  5. यह मेरे लिए नई जगह है। कभी उधर की तरफ आया तब यह जगह भी देखी जाएगी।
    आभार आपका सुंदर पोस्ट के लिए

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. खजुराहो का प्लान बना लीजिए फिर रास्ते मे गढ़कुंडार भी देखना हो जाएगा ।
      आभार आपका भी

      हटाएं
  6. वाह.गजब रोचक प्रसंग.. अब ओरछा आया तो आपके साथ गढ़कुंडार भी घुमा जाएगा

    जवाब देंहटाएं
  7. हमने भी देखा है। अंदर कुछ छोटे छोटे कमरे और छोटी सीढ़ियों से बौना चोर की कहानी में विश्वास करना पडा था। बेहतरीन विवरण।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. अब तो कुछ सरंक्षित हो गया है, वरना पहले तो उपेक्षित पड़ा था । आभार सर

      हटाएं
  8. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल मंगलवार (12-06-2018) को "मौसम में बदलाव" (चर्चा अंक-2999) (चर्चा अंक-2985) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    जवाब देंहटाएं
  9. ये किला न केवल बेजोड़ शिल्पकला का नमूना है बल्कि उस खूनी प्रणय गाथा के अंत का गवाह भी है रोचक प्रसंग बहुत ही बढ़िया और जानकारी आपसे मिली आभार मुकेश जी कभी मौका लगा तो देखेंगे जरूर
    किले के अंदर का विहंगम दृश्य ये तस्वीर बहुत ही पसंद आई

    जवाब देंहटाएं
  10. बढ़िया जानकरी और सुन्दर चित्रों से भरी एक शानदार पोस्ट .

    जवाब देंहटाएं
  11. छोटे -छोटे स्थानों की खोजपरक घुमक्कड़ी भी कोतुहल जगाती है और भारत के विस्तृत इतिहास को मोतियों में पिरोती हुई प्रतीत होती है ! आपका ट्रांसफर होने का एक बड़ा फायदा ये तो हुआ कि अब हमें ओरछा के बाद टीकमगढ़ के आसपास की ऐतिहासिक कहानियां पढ़ने को मिलेंगी !! साधुवाद पांडेय जी बुंदेलखंड के इतिहास को करीब से पढ़वाने के लिए

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. वैसे ये घुमक्कड़ी ओरछा पदस्थ रहते ही कि गयी । आभार योगी जी

      हटाएं
  12. जब चालीस पचास लोगों की बारात गायब हो गयी तो लग रहा है भूल भुलैया या निचला हिस्सा वास्तव में आश्चर्यजनक ही होगा वरना तो कई भूल भुलैया ऐसे होते हैं कि उनमें जाना का तो एक ही रास्ता होता है और बाहर आने के कई सारे। इतिहास की जानकारी के मामले में तो आप गागर में सागर भर देते हैं

    जवाब देंहटाएं
  13. Bona chora dhanere chuhana mai se tha chori karte pakadne par kah diya ki mai ghadkundar rajya ka hau tabchod diya gaya or khangar rajput samjane lage loga

    जवाब देंहटाएं
  14. kabhi jana chahu to kya samayh sahi rahega aur , near by hotel kis jagah par lena sahi rahega ?

    जवाब देंहटाएं
  15. बहुत़ ही सुंदर व्याखान। पुरानी धरोहरों को सहेज कर रखना हमारी जिम्मेदारी है। जो हमें विरासत में मिली है। जय़ माँ विंध्यवासिनी

    जवाब देंहटाएं
  16. वाह बहुत खूब, साथ साथ बुन्देला के विंध्येला शब्द से निष्पन्न होने का संदर्भ अपेक्षित था।

    जवाब देंहटाएं
  17. खंगार जाति की उत्पत्ति कहाँ से हुई है? वृन्दावन वर्मा ने बुंदेली भाट इतिहासकारों की रचनाओं को आधार मानते हुए इनको बौना चोर का वंशज बताया है। हालांकि प्रामाणिक इतिहासकार इन्हें गोंड जनजाति से उत्पन्न मानते हैं, जो कि काफी हद तक सत्यता के करीब है। वर्तमान में खंगार जाति अनुसूचित जाति में गिनी जाती है।

    जवाब देंहटाएं
  18. खंगार जाति की उत्पत्ति कहाँ से हुई है? वृन्दावन वर्मा ने बुंदेली भाट इतिहासकारों की रचनाओं को आधार मानते हुए इनको बौना चोर का वंशज बताया है। हालांकि प्रामाणिक इतिहासकार इन्हें गोंड जनजाति से उत्पन्न मानते हैं, जो कि काफी हद तक सत्यता के करीब है। वर्तमान में खंगार जाति अनुसूचित जाति में गिनी जाती है।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. Amit bhai khanagar jati gujrat ke khanagar vansh se hai hum kshtriya hai na ki gond or raha sc m aane ka to mp ke 14 distric hai bas jinme aate hai baki sabhi jagah jese general m or kuch jagah obc m bhi aate hai indoor bhopal m obc hai to aap aap pr koi praman hai ki khangar gond vansh se hai hum kshatriya khangar hai or boona chor pratihar rajput ya tomar rajput m se koi tha isliye aap dobara esa nhi bole ok

      हटाएं
  19. Amit mishra g hum kshatriya hai gond nhi or gujarati se hai or dusri baat ye ki sirf mp ke 14 distric m sc m baki kuch jagah gen m ir kuch jagah obc ok or tumhe koi shakh ho to ache se history pado khangar rajput ki ok

    जवाब देंहटाएं
  20. अनाम भाई, जो लोग अपनी सच्चाई से दूर भागते हैं उनको कुछ नहीं मिलता है। खंगार कबसे राजपूत बन गए? और वो भी गुजराती? इससे बड़ा मज़ाक क्या हो सकता है? ���� थोड़ा पढ़ो-लिखो, ज्ञान वर्धन करो, गलतफहमियां मत पालो। खंगार लोग मध्यप्रदेश के अलावा राजस्थान, छत्तीसगढ़ और महाराष्ट्र में भी अनुसूचित जाति में आते हैं। आपके विधायक, सांसद, पंच, प्रधान, सभासद सभी अनुसूचित जाति की सीटों से चुनाव लड़ते हैं। आपके अधिकारी, जज, क्लर्क, इत्यादि सभी अनुसूचित जाति के आरक्षण का फायदा उठाकर नौकरी पाते हैं। अतः ज़बरदस्ती राजपूत बनने की कोशिश न करें। रंगे सियार वाली कहानी सुनी है न? कहीं वही हाल न हो जाये, अतः जो हैं वही रहें, कुछ और न बनें।

    जवाब देंहटाएं
  21. Tumhi askele m sakal hai sabhi rajput jo hum m avivah aagai karte hai vo sab chutiya hai phir tum ye tum soch lo Google ho to dekh lena ki khangar kshatriya hai ya gond tumhare jese thodi hai jo bharat ke mool nivashi hi nhi hai tibbbbat se aaye ho or tumhare sakal se kya hota jo janta nhi vo kisi ki manta nhi ise hi murkh kehte hai

    जवाब देंहटाएं
  22. हमने सभी जातियों का इतिहास पढ़ा है और जानकारी के लिए बता दूं कि गोंड जाति का इतिहास खंगारों से बहुत अधिक गौरवशाली है। गोंड महारानी दुर्गावती की वीरता तो जग प्रसिद्ध है; गढ़ मंडला, नागपुर जैसे सैकड़ों नगर गोंड राजाओं ने बसाये। अतः मिश्राजी किसी को कम न समझें। खंगारों का इतिहास तो गढ़ कुंडार तक सीमित है। पर आपकी ये बात सत्य है कि खंगार अनुसूचित जाति में आते हैं। यदि वो वास्तव में राजपूत होते तो SC आरक्षण का फायदा कभी नहीं उठाते। इसे दोगलापन कहते हैं।

    जवाब देंहटाएं
  23. बुंदेलखंड के इतिहास में चंदेलों और बुंदेलों का योगदान है। खंगार तो धोखे से गढ़कुंडार के स्वामी हो गए और कुंडार पे इनका स्वामित्व मात्र 80 वर्ष रहा। इस दौरान ये इतना हवा में उड़ने लगे कि अपने मालिक बुन्देलाओं की कन्या से विवाह करने का ख्वाब देखने लगे। नतीजन बुन्देलाओं के अगवा सोहनपाल बुंदेला ने खंगारों का भूसा भरकर उनको नष्ट कर दिया। आज बुंदेलखंड में खंगार अत्यंत नीची जाति में गिने जाते हैं तथा आम जनमानस में ये दर्ज़ी, नाई, बढ़ई से भी नीचे माने जाते हैं। परंतु आज भी ये अपने इतिहास से सबक लेने को तैयार नहीं हैं, जो कि इनकी बुद्धिहीनता को दर्शाता है।

    जवाब देंहटाएं
  24. अभी क्या जानते हो तुम खंगार राजवंश के बारे में यह सब तो तुमने बता दिया पर यह कौन बताएगा कि खंगार राजवंश की बहन केसर दे मैं अपनी सभी सहेलियों माता बहनों सभी छतरानियों ने मिलकर जोहर किया था और कन्या पूजन की प्रथा भी महाराजा खेत सिंह खंगार जी की ही देन है

    जवाब देंहटाएं
  25. हिंदुओं में कन्या पूजन खेत सिंह खंगार ने शुरू कराया?? ये तो नई कहानी पता चली। तुम्हारा मतलब है कि पुराणों में जो कन्या पूजन का वर्णन है वो सब झूठ है? अब ये न कहने लगना कि पुराण भी खेत सिंह खंगार ने ही लिखे हैं :D इतने झूठ और मिथ्याभिमान में मत डूबो मित्र।

    जवाब देंहटाएं

ab apki baari hai, kuchh kahne ki ...

orchha gatha

बेतवा की जुबानी : ओरछा की कहानी (भाग-1)

एक रात को मैं मध्य प्रदेश की गंगा कही जाने वाली पावन नदी बेतवा के तट पर ग्रेनाइट की चट्टानों पर बैठा हुआ. बेतवा की लहरों के एक तरफ महान ब...