शुक्रवार, 16 अगस्त 2013

पुलिस प्रशिक्षण की प्यारी प्यारी यादें ...

प्रणाम मित्रो .
सर्वप्रथम आप सभी को स्वतंत्रता  दिवस की पश्चातवर्ती हार्दिक शुभकामनाएं !
पूरे दो महीने आप से दूर रहने के लिए क्षमा प्रार्थी हूँ, दरअसल मैं २ माह के पुलिस प्रशिक्षण के लिए जवाहर लाल पुलिस अकादमी , सागर  ( म० प्र० ) गया था . दो महीने प्रशिक्षण में बड़ा मजा आया ! पूरे मध्य प्रदेश से आये अपने बैच के लोगो के साथ विभाग के  अनुभवी ( पदोन्नत/प्रमोटी ) लोगो का साथ खूब भाया. इन दो महीनो में बहुत कुछ सीखा. और सबसे ख़ुशी की बात तो ये थी , कि प्रशिक्षण मेरे अपने शहर सागर में ही था .
अब आप सभी से भी इसके अनुभव बाँटना जरुरी है न !
तो प्रशिक्षण कि शुरुआत हुई कटोरा कट हेयर कटिंग के साथ .....

प्रशिक्षण के दौरान मौज मस्ती में भी कोई कमी नही रही ...

ये है सागर की प्रसिद्द लाखा बंजारा झील जिसके किनारे जवाहर लाल पुलिस अकादमी बनी हुई है ...इस तरह के ज्ञान देने की मेरी आदत यह भी बनी रही ..साथ में है मनोज प्रजापति ( ज्ञानार्जन करते हुए ..)

ये है हमारे पूरे बैच की चांडाल चौकड़ी ! इसमें बांयें से मनोज प्रजापति ( सीधी में पदस्थ मगर सीधे नही है ), फिर नीलिमा ( देखने में सबसे छोटी मगर मस्ती में सबकी माँ है ), इसके बाद हमारे बैच के सबसे कमउम्र विक्रम (बेताल ) और सबसे बांये संजीव जैन ( जिन्हें अपने मक्कार होने का गर्व था )



परेड ( सलामी शास्त्र )  करते हुए हम लोग ....और सबसे आगे हमारे कमांडर मनोज प्रजापति

ये है जलवा ...रिवाल्वर और पिस्टल दोनों एक साथ ....हैंड्स अप
और कंप्यूटर भी सीखा हमने ....

  
जब ज्यादा पी० टी० और परेड हो जाती तो थ्योरी की क्लास में थोड़ी झपकी भी लेने में नही चुकते थे . 




ये है हमारा बैच और हमारे प्रशिक्षक

पीछे दिख रही बिल्डिंग -हमारा होस्टल है .

इन महीनो में हमने शारीरिक प्रशिक्षण में पी० टी०  परेड तो थ्योरी में भारतीय दंड संहिता , दंड प्रक्रिया संहिता , आबकारी अधिनियम , एन डी पी एस एक्ट ,  आचरण नियम , विभागीय नियम  इत्यादि सीखा .
और आखिर में दीक्षांत समारोह के बाद विदाई .....






10 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टी का लिंक कल शनिवार (17-08-2013) को "राम राज्य स्थापित हो पाएगा" (शनिवारीय चर्चा मंच-अंकः1339) पर भी होगा!
    स्वतन्त्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ...!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  2. ये मस्ती भरे प्रशिक्षण के क्षण आजीवन याद रहेगें ,,

    स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाए,,,

    RECENT POST: आज़ादी की वर्षगांठ.

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर प्यारी प्यारी यादें ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपके ब्लॉग को ब्लॉग एग्रीगेटर "ब्लॉग - चिठ्ठा" के विविध संकलन में शामिल किया गया है। सादर …. आभार।।

    कृपया "ब्लॉग - चिठ्ठा" के फेसबुक पेज को भी लाइक करें :- ब्लॉग - चिठ्ठा

    उत्तर देंहटाएं

ab apki baari hai, kuchh kahne ki ...

orchha gatha

बेतवा की जुबानी : ओरछा की कहानी (भाग-1)

एक रात को मैं मध्य प्रदेश की गंगा कही जाने वाली पावन नदी बेतवा के तट पर ग्रेनाइट की चट्टानों पर बैठा हुआ. बेतवा की लहरों के एक तरफ महान ब...