शुक्रवार, 22 नवंबर 2013

जिन्द्गी न जाने , क्यूँ खफा हो गयी है ...

 जिन्द्गी  न जाने , क्यूँ खफा हो गयी है

हैतन्हाई के आलम में , ख़ुशी बेवफा हो गयी है 

जो लिखे मोहब्बत के तराने , आज हुए बेगाने
दिल में बसी तेरी खुशबु , जाने कहाँ दफा हो गयी है


सोचा था , एक दिन पूरी होगी मोहब्बत की किताब
अफ़सोस , बचे कुछ पन्ने, कुछ फलसफा हो गयी 

जेहन में बची यादें, दिल भी वीरान हुआ 
दफन हो सब बातें , जिंदगी भी सफा हो गयी 

महक न रह गयी बाकि, चली ऐसी आंधियां 
वीरान 'चन्दन' के दरख्त , अब ऐसी फ़िज़ा हो गयी है . 
- मुकेश पाण्डेय 'चन्दन'

17 टिप्‍पणियां:

  1. अति सुन्दर..अति सुन्दर..क्या प्रबल भाव है.. बस अति सुन्दर..

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. शुक्रिया अमृता जी , इसी तरह स्नेह बनाए रखे

      हटाएं
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज शनिवार को (23-11-2013) "क्या लिखते रहते हो यूँ ही" : चर्चामंच : चर्चा अंक :1438 में "मयंक का कोना" पर भी होगी!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. शुक्रिया शास्त्री जी , इसी तरह स्नेह बनाए रखे

      हटाएं
  3. उत्तर
    1. शुक्रिया हर्षवर्धन जी , इसी तरह स्नेह बनाए रखे

      हटाएं
  4. उत्तर
    1. शुक्रिया अना जी , इसी तरह स्नेह बनाए रखे

      हटाएं
  5. इस खुशी को अपने आस पास ढूंढना होता है .. मिल जाती है ...

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. शुक्रिया दिगंबर जी , इसी तरह स्नेह बनाए रखे. सच कहा आपने ...लेकिन कभी- कभी ढूंढने पर भी ख़ुशी नही मिल पाती है. वैसे मेरी कोशिश यही होती है .

      हटाएं
  6. jmane ke sawalo ko main hanske tal jata hu, nami aankho ki kehti h mujhe tum yaad aate ho.

    उत्तर देंहटाएं
  7. सुन्दर एहसासों से लबरेज ..
    सोचा था , एक दिन पूरी होगी मोहब्बत की किताब
    अफ़सोस , बचे कुछ पन्ने, कुछ फलसफा हो गयी
    खुबसूरत पंक्तियाँ ..बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  8. प्रिय ब्लागर
    आपको जानकर अति हर्ष होगा कि एक नये ब्लाग संकलक / रीडर का शुभारंभ किया गया है और उसमें आपका ब्लाग भी शामिल किया गया है । कृपया एक बार जांच लें कि आपका ब्लाग सही श्रेणी में है अथवा नही और यदि आपके एक से ज्यादा ब्लाग हैं तो अन्य ब्लाग्स के बारे में वेबसाइट पर जाकर सूचना दे सकते हैं

    welcome to Hindi blog reader

    उत्तर देंहटाएं
  9. प्रिय ब्लागर
    आपको जानकर अति हर्ष होगा कि एक नये ब्लाग संकलक / रीडर का शुभारंभ किया गया है और उसमें आपका ब्लाग भी शामिल किया गया है । कृपया एक बार जांच लें कि आपका ब्लाग सही श्रेणी में है अथवा नही और यदि आपके एक से ज्यादा ब्लाग हैं तो अन्य ब्लाग्स के बारे में वेबसाइट पर जाकर सूचना दे सकते हैं

    welcome to Hindi blog reader

    उत्तर देंहटाएं
  10. उत्तम...इस प्रस्तुति के लिये आप को बहुत बहुत धन्यवाद...

    नयी पोस्ट@ग़ज़ल-जा रहा है जिधर बेखबर आदमी

    उत्तर देंहटाएं

ab apki baari hai, kuchh kahne ki ...

orchha gatha

बेतवा की जुबानी : ओरछा की कहानी (भाग-1)

एक रात को मैं मध्य प्रदेश की गंगा कही जाने वाली पावन नदी बेतवा के तट पर ग्रेनाइट की चट्टानों पर बैठा हुआ. बेतवा की लहरों के एक तरफ महान ब...