मंगलवार, 23 जनवरी 2018

विश्वशांति स्तूप और सोनभंडार का रहस्य

पिछले भाग गया से राजगीर की राह में आपने पढ़ा कि हमारी यात्रा गया से किस तरह राजगीर के लिए शुरू हुई हम अपनी मोटरसाइकिल से राजगीर की सीमा पर स्थित प्रवेश द्वार तक पहुंच चुके थे । राजगीर यह नाम मैंने इतिहास कि किताबों में बहुत पढ़ा था । मगध राज्य के सबसे प्राचीन वंश का संस्थापक वृहद्रथ (महाभारत काल)  था , और इसकी राजधानी गिरिव्रज थी । चारों तरफ पर्वत या गिरी से घिरा होने के कारण इसका नामकरण गिरिव्रज हुआ । बृहद्रथ के पश्चात उसका पुत्र जरासंघ शासक बना । जरासंध के बारे में तो आपने कहां सुना ही होगा जरासंध की मृत्यु महाबली गदाधारी भीम के हाथों श्री कृष्ण के इशारों से हुई । जरासंध के बाद इस वैभव पूर्ण साम्राज्य के बारे में इतिहास मौन है । परंतु बौद्ध ग्रंथों के अनुसार 544 ईसा पूर्व में बिंबिसार ने हर्यक वंश की स्थापना की और मगध की गद्दी पर बैठे । बिंबिसार नहीं प्राचीन गिरी ब्रज को सुव्यवस्थित कार्यक्रम राजगृह नाम से अपनी राजधानी बनाया । बिंबिसार के समय महात्मा बुद्ध अपने धर्म का प्रचार प्रसार कर रहे थे और मगध के अंतर्गत ही बोधगया में उन्हें ज्ञान की प्राप्ति हुई थी । अतः गौतम बुद्ध से प्रभावित होकर सम्राट बिंबिसार ने बौद्ध धर्म ग्रहण किया । बिंबिसार के दरबार में उस समय के प्रसिद्ध राजवैद्य जीवक रहा करते थे, जिन्हें बिंबिसार ने महात्मा बुद्ध की सेवा में भी भेजा था । इसके अलावा अवंती के शासक प्रद्योत के पांडु रोग से ग्रसित होने पर राजवैध जीवक ने ही उन्हें निरोगी किया । सम्राट बिंबिसार ने अंग देश (वर्तमान में बिहार का भागलपुर क्षेत्र ) के शासक ब्रम्हदत्त को हराकर उसे मगध का हिस्सा बनाया । आज इतिहास में हम देखते हैं कि मुगल काल में मुगल बादशाह अकबर ने वैवाहिक संबंधों के आधार पर अपने साम्राज्य का विस्तार किया महारानी जोधा इसका एक उदाहरण है । परंतु यह परंपरा भारतीय शासकों में बहुत पहले के समय से ही चली आ रही है । सम्राट बिंबिसार ने वैवाहिक संबंध स्थापित कर कौशल (वर्तमान पूर्वी मध्य प्रदेश) नरेश प्रसेनजित की बहन महाकौशला से वैशाली (हाजीपुर क्षेत्र) नरेश चेतक की पुत्री क्षेमा से और मद्र प्रदेश (वर्तमान पंजाब ) की राजकुमारी क्षेमा से विवाह कर अपने मगध साम्राज्य का विस्तार किया । 52 वर्षों तक बिंबिसार ने मगध साम्राज्य की उत्तरोत्तर प्रगति की लेकिन उसके ही पुत्र अजातशत्रु ने अपने पिता बिंबिसार की हत्या कर गद्दी हथियाई । अजातशत्रु जैन धर्म को मानने वाला था परंतु उसके ही शासनकाल में गौतम बुद्ध की मृत्यु हुई और मृत्यु उपरांत बौद्ध धर्म की प्रथम संगीति 483 ईसा पूर्व में राजगृह में संपन्न हुई इसके अध्यक्ष महा कश्यप को बनाया गया । इस तरह देखा जाए तो बौद्ध धर्म के लिए राजगृह यानी वर्तमान राजगीर बहुत ही महत्वपूर्ण केंद्र बन गया । बौद्ध धर्म के अलावा राजगीर में हिंदुओं, सिखों और जैनियों के भी धर्मस्थल हैं । अर्थात राजगीर सर्व धर्म समभाव वाला एक अनुपम प्राकृतिक परिदृश्य से परिपूर्ण स्थल है ।
                                              अब हम इतिहास के पन्नों से वापस वर्तमान के धरातल की ओर लौटते हैं । समय के साथ हमारी बाइक के पहिए घूम रहे थे और हम विश्व शांति स्तूप का प्रवेश द्वार को देख कर उस तरफ मुड़ गए । विश्व शांति स्तूप एक पहाड़ी के ऊपर बना हुआ है । जहां तक जाने के लिए दो मार्ग हैं एक सीढ़ियों से चढ़कर और दूसरा आकाशीय रज्जुमार्ग या रोपवे । रोपवे बिहार पर्यटन द्वारा संचालित किया जाता है और यहां पर पुरातन कालीन रोपवे के दर्शन हुए । रोपवे के दोनों का टिकट ₹80 है । जबकि एक तरफ ऊपर से नीचे उतरने का एक व्यक्ति का ₹50 टिकट है । नीचे से ऊपर जाने के लिए एक तरफ का टिकट नहीं मिलता  दोनों तरफ की टिकट लेने पड़ते हैं । अतः हम दोनों ने दोनों तरफ के टिकट लिए और लग गए रुपए की लाइन में । इससे पहले मैं मध्य प्रदेश के मैहर के शारदा माता मंदिर और भेड़ाघाट के धुआंधार जलप्रपात के रूप में में बैठ चुका था ,क्योंकि वह रोप वे चारों तरफ से बंद और आधुनिक प्रणाली के थे इसलिए उनमें कम डर लगता है । राजगीर के रोपवे की प्रणाली थोड़ी सी पुरानी है और बैठक व्यवस्था खुला है इसलिए डर होना लाजमी है । रोपवे काउंटर पर मोबाइल से सेल्फी लेना मना है का बोर्ड लगा हुआ था ।इसलिए हमने भी सेल्फी नहीं ली हालांकि वैसे भी हम सेल्फी बहुत कम लेते हैं । कुछ देर पश्चात हमारी बारी आई और हमें भी  खड़खड़ाते हुए आकाशीय रज्जुमार्ग के सिंहासन पर बैठाया गया । और हम चल पड़े विश्व शांति स्तूप को देखने पहाड़ियों के ऊपर हालांकि रुपए की खड़खड़ाहट से हमारी शांति जरूर भंग हो रही थी और नीचे खाई को देख कर सांसे अटक रही थी, मन भटक रहा था और तन लटक रहा था । हमने चलते हुए रोपवे में भी कुछ मोबाइल से फोटो निकाली जिसे ऊपर से नीचे आ रहे लोगों ने देखा आश्चर्यचकित हुए । जब एक सज्जन से रहा ना गया तो उन्होंने चिल्लाते हुए कहे दिया ' ए बाबू तनी देख के न तो मोबाइल गिर जाई ! '
                                                                                 खैर हम गृद्धकूट पर्वत के रत्नगिर शिखर पर पहुंचे जहां पर सफेद रंग का बना हुआ विश्व शांति स्तूप तेज धूप में अपनी अलग ही आभा बिखेर रहा था । एक जापानी लामा की परिकल्पना का शिलान्यास भारत के द्वितीय राष्ट्रपति सर्वपल्ली राधाकृष्णन जी ने 1965 में किया था, और इसका उद्घाटन 1969 में राष्ट्रपति वेंकट वराह गिरि जी ने किया था । स्तूप के ऊपर भगवान बुद्ध की प्रतिमाएं बनी हुई थी और उन प्रतिमाओं के आसपास जापानी और हिंदी में भगवान बुद्ध के वचन लिखे हुए है । स्तूप के बगल में ही एक जापानी मंदिर बना हुआ है, जिसका उद्घाटन 1978 में तत्कालीन प्रधानमंत्री मोरारजी देसाई द्वारा किया गया था । स्तूप के ठीक सामने एक बड़ी सी घंटी लगी हुई थी जिसके साथ लोग खड़े होकर फोटो खिंचवा रहे थे । तेज धूप होने के कारण गर्मी बहुत अधिक थी और इस वजह से हम यहां ज्यादा देर नहीं रुके और वापस आकाशीय रज्जुमार्ग से नीचे उतरे ।
                                                                       सूर्य देव चरम पर थे और अब हमें भूख भी लगने लगी थी लेकिन आस पास कोई अच्छा रेस्टोरेंट ना दिखने के कारण हम राजगीर शहर की ओर चल पड़े । राजगीर शहर में प्रवेश करने के पूर्व ही हमें सोन भंडार, जरासंध के अखाड़ा, मनियारी मठ आदि के संकेत बोर्ड देखें और हम चल पड़े सोन भंडार की ओर । सोन भंडार एक प्राकृतिक चट्टानों की गुफा थी जिसे तीसरी या चौथी सदी में जैन मुनि वीर देव ने बनवाया था । इसके बारे में जनश्रुति है कि यह सम्राट बिंबिसार का खजाना है जिसे किसी गुप्त मंत्र द्वारा सुरक्षित किया गया है और खजाने के द्वार पर यह मंत्र लिखा हुआ है । जिसे अब तक कोई पढ़ नहीं पाया । अंग्रेजों द्वारा इस खजाने को पाने के लिए तोप का भी प्रयोग किया गया लेकिन इस सोन भंडार का वे बाल भी बांका ना कर सके । अधिक गर्मी की वजह से जरासंध का अखाड़ा और ब्रिज बिहार जाने का कार्यक्रम निरस्त कर हम वापस उसी रास्ते पर लौटे और मनियारी मठ के दर्शन किए । कुए के जैसे बने इस मठ में अंदर एक देवी का स्थान बताया जाता है जो राजगीर के शासकों की कुलदेवी रही हैं । अब हम पुनः राजगीर जाने वाली मुख्य मार्ग की ओर चल पड़े ।
                                        राजगीर में प्रवेश करने के पश्चात हमने सबसे पहले गर्म पानी के कुंड देखने का मन बनाया । यहां पर सात अलग- अलग कुंड बने हुए हैं जो अलग-अलग ऋषि यों को समर्पित है सबसे बड़ा कुंड ब्रह्म कुंड है । मौसम में गर्माहट के कारण गर्म कुंड में नहाना हमें गवारा ना हुआ । परंतु आचमन अवश्य किया । गर्म कुंड मैं माननीय पटना उच्च न्यायालय द्वारा मुस्लिमों के प्रवेश पर रोक की तख्ती लगी देखकर थोड़ा सा आश्चर्य हुआ । क्योंकि मैंने अभी तक किसी अन्य धार्मिक स्थान पर दूसरे धर्म के लोगों के प्रवेश पर रोक की लगी तख्ती नहीं देखी थी वह भी किसी हाईकोर्ट के आदेश द्वारा । खैर हिंदू मुस्लिम होने की किसी भी प्रकार की जांच नहीं हो रही थी, और लोग बेरोकटोक आ जा रहे थे । गर्म कुंड के पास ही लगा ठंडे जल का मानव निर्मित तरणताल भी था । जो निजी संपत्ति लग रही थी और वहां टिकट लेकर लोग स्नान कर रहे थे । घर हमें तो अभी बड़ी जोरों से भूख लगी थी इसलिए गर्म कुंड के बाहर ही बने सरकारी रेस्टोरेंट में हम लोगों ने दो थाली ऑर्डर की । खाना साधारण ही था, लेकिन भूखे पेट तो सब अच्छा लगता है । उसके बाद हम लोगों ने वेणुवन के दर्शन किए । विष्णु शब्द का अर्थ बांस होता है अर्थात यह बांस का जंगल रहा होगा । यह गौतम बुद्ध का प्रिय स्थल रहा है और वह अक्सर अपने राजगीर प्रवास के दौरान इसी वेणुवन में रुकते थे । यहां उन्होंने कई चौमासे भी बिताए । वेणुवन के निकट ही एक थाई मंदिर बनाया गया है । गौतम बुद्ध को वन अधिक ही पसंद थे उन्हें बोधगया में जंगल में बोधि वृक्ष के नीचे ज्ञान प्राप्ति हुई । आम्रपाली नामक उनकी प्रसिद्ध शिष्य ने उन्हें एक आम्र बन दान किया था । और अंगुलिमाल से भी वह एक वन में ही मिले थे । अब हमारी मंजिल विश्व विख्यात नालंदा विश्वविद्यालय के खंडहर थे इसलिए हमने राजगीर को छोड़ नालंदा की राह पकड़ी ।
विश्व शांति स्तूप का प्रवेश द्वार 


कृपया कतार में आये 


आकाशीय रज्जु मार्ग (रोप वे )

आकाशीय रज्जु मार्ग वाहन पर सवार हम 


शिखर पर स्तूप जाने का रास्ता 

विश्व शांति स्तूप 


हम दो हमसफर 

मनमोहक नज़ारे 


जापानी भाषा का शिलालेख 







सोनभंडार 

सोनभंडार के अंदर 




मनियर मठ 


गर्म कुंड 


सप्तकुण्ड 

16 टिप्‍पणियां:

  1. हम अबसे सेल्फी ले लिहिती �������� बहुत बढ़िया जानकारी ।।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही महत्वपूर्ण जानकारी व अत्यंत आकर्षक नज़ारे आपने अपने कैमरे में कैद किये।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत ही महत्वपूर्ण जानकारी व अत्यंत आकर्षक नज़ारे आपने अपने कैमरे में कैद किये।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बढ़िया जानकारी और ढेर सारी सुन्दर तस्वीरों से भरी एक शानदार पोस्ट . विश्व शांति स्तूप की तस्वीर सबसे बेहतर .अब तो यहाँ जाना ही पड़ेगा .

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. पिछली पोस्ट पर आपके आदेश का पालन किया ।

      हटाएं
  5. बहुत अच्छा विवरण किया आपने सोनभंडार और शांति स्तूप का। शांति स्तूप पर मैं भी रज्जु मार्ग से ही गया और आया था। वा मुसलिमों के प्रवेश वाला तख्ती तो मैंने बचपन में भी देखा था। पहले तो एक ही तख्ती थी टीन वाला पर अब तो दीवार पर भी मोटे मोटे अक्षरों में लिख दिया गया है। अगर आप बस स्टैंड के पास आकर खाना खाते तो बहुत ही स्वादिष्ट खाना मिलता है। हमने तो स्पंज वाला रसगुल्ला जो दिल्ली में 25 का देता है वो वहां 10 रुपए का लिया था और स्वाद में भी अच्छा था।

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल बुधवार (24-01-2018) को "महके है दिन रैन" (चर्चा अंक-2858) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  7. सुन्दर प्रस्तुति.. अपने क्षेत्र में आपका अभिनन्दन करता हूँ...पहले पता होता तो जरुर मिलता

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. अरुण जी, गया ससुराल है, तो आना-जाना लगा रहता है ।

      हटाएं
  8. आपकी इस पोस्ट को आज की बुलेटिन राष्ट्रीय बालिका दिवस और ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,, सादर .... आभार।।

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत सुंदर पोस्ट बहुत जानकारी भी मिली।

    उत्तर देंहटाएं

ab apki baari hai, kuchh kahne ki ...

orchha gatha

बेतवा की जुबानी : ओरछा की कहानी (भाग-1)

एक रात को मैं मध्य प्रदेश की गंगा कही जाने वाली पावन नदी बेतवा के तट पर ग्रेनाइट की चट्टानों पर बैठा हुआ. बेतवा की लहरों के एक तरफ महान ब...