सोमवार, 30 अप्रैल 2012

बांस के पत्ते का मृत्यु गीत !

शीर्षक देख चौंके नही ..........कभी आपने बांस  के सूखे  हुए पत्ते को बांस पर से गिरते हुए देखा है ? अगर नही तो अब कभी मौका मिले तो देखना ! अभी कुछ दिनों पहले मैं अपने गाँव ( गाँव- भरौली, पोस्ट - सिमरी, जिला बक्सर , बिहार ) गया हुआ था . मेरे घर के पीछे बांसों का एक छोटा सा जंगल जिसे भोजपुरी में कोठी कहते है . इस बार गरम दोपहरी में जब मैं दुवार (घर के बाहर बिहार में पुरुषो के बैठक खाने को कहते  है ) में लेटा रहता था ( मजबूरन बिजली न होने के कारण ) , तो मैंने बांस के पत्तो को बांस से गिरते हुए देखा , देखा तो पहले भी था, मगर कभी इस तरह से नही देखा था . बांस के पत्ते आम पेड़-पौधो की तरह नही सीधे जमीन पर गिरते है . बल्कि बांस के पत्ते जब सूख कर बांस से नीचे गिरते है , तो हवा में कलाबाजियां खाते हुए ऐसे गिरते है , जैसे अपनी  मृत्यु पर नृत्य कर रहे हो .............इस संसार सागर से छूटने का उत्सव मना रहे हो . ..बांस के पत्ते जब बांस से नीचे गिरते है , तो कभी सीधे नही गिरते, वे हवा को काटते हुए..........नाचते से धीरे-धीरे जमीन को ओर बढ़ते है . 
अब इस पर कुछ वैज्ञानिक सोच के लोग कहेंगे कि.....बांस के पत्ते सामान्य पत्तो कि अपेक्षा पतले होते है , और सूखने पर किनारों से मुड़ जाते है . और उनकी संरचना इस तरह कि बन जाती है , कि वो हवा को काट सके .और हवा को काटने के क्रम में वो जमीन पर सीधे न गिर कर घुमते हुए जमीन पर ऐसे गिरते है , मानो नाच रहे हो !  
  मैं  इनकी बात सही होते हुए भी मानने से इनकार कर दूंगा , क्योंकि विज्ञान कितना भी  तर्कपूर्ण हो , मगर वह हरदम संवेदना को नही जान पाता है . वरना इतने विनाशक हथियार ही क्यों बनते ? मैं  तो बांस के  सूखे  पत्तो के  गिरने में  एक कवि की तरह  संवेदना को  बार - बार  निहारूंगा  ! 

बांस के पत्ते  जब सूख कर गिरते है डाल से
तो नाचते हुए कहते है  काल से
रे काल  मुझे कब थी जिन्दगी प्यारी 
पर  तुझे पाने की थी  बेकरारी


 अपनी राय से  अवश्य  अवगत करायें...........इन्तजार रहेगा 

 
  

14 टिप्‍पणियां:

  1. रे काल मुझे कब थी जिन्दगी प्यारी
    पर तुझे पाने की थी बेकरारी ,

    बहुत सुंदर प्रस्तुति,..बेहतरीन रचना,....

    MY RESENT POST .....आगे कोई मोड नही ....

    उत्तर देंहटाएं
  2. बढ़िया और तीक्ष्ण सोंच के मालिक लगते हो ...
    प्रभाव शाली
    शुभकामनायें आपको !

    उत्तर देंहटाएं
  3. bansh ka pata girte girte yah sandesh de kar jata hai..............
    JINDGI JIYO TO SAAN SE MAUT AAGI ARAM SE,
    MAUT AA BHI JAYE BHAGWAN SE,
    TO NACHO JI JAAN SE.......... JAI HOOOOOOOOOOOOOOOOOOOOOOOOOO

    उत्तर देंहटाएं
  4. बांस के पत्तों के माध्यम से मन का विचार ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत प्‍यारी सेवंदना पूर्ण पोस्‍ट।

    उत्तर देंहटाएं
  6. राजेन्द्र महाजन9 सितंबर 2014 को 5:50 pm

    इतने कम शब्दों में मृत्यु का इतना सटीक वर्णन
    अति सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  7. बांसपत्र पतन से उपजा चिंतन गान, कुछ इस तरह साल के फूलों का भी पतन होता है।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आदरणीय साल पत्र की जानकारी हेतु आभार । इसी तरह स्नेह बनाये रखिये ।

      हटाएं
    2. आदरणीय साल पत्र की जानकारी हेतु आभार । इसी तरह स्नेह बनाये रखिये ।

      हटाएं
    3. आदरणीय साल पत्र की जानकारी हेतु आभार । इसी तरह स्नेह बनाये रखिये ।

      हटाएं
  8. सचमुच पाण्डे जी, इस पत्ते से ज्यादा ध्यान मेरा उस "फुर्सत" की तरफ गया जो आजकल के जीवन में विलुप्त प्रायः हो चुकी है । जिसे आपके यहाँ "दवार" कहते हैं उसे हरियाणा में "बैठक", "पोली" या "घेर" कहा जाता है और इस तरह का ना जाने कितना ही ज्ञान उन बैठकों में बिखरा होता है जिसे पहले तो वहां बैठने वाले सहेज लेते थे । वहां एक पीढ़ी दुसरी को सिखाती है दूसरी पीढ़ी पहली पीढ़ी से सीखती है ।

    सचमुच ग़ज़ब निचौड़ निकाले आप उस ख़ुशी से नाचती गाती "जाती" हुई बांस की पत्ती से ।
    नमन

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. कौशिक जी, आज भले ही हम चंद सेकंड में गूगल से कुछ भी पता कर लेते है , लेकिन बुजुर्गों से प्राप्त ज्ञान के साथ अनुभव, सीख और संस्कार कहाँ से लाएंगे । वो फुर्सत हमारी धरोहर थी ।

      हटाएं
    2. कौशिक जी, आज भले ही हम चंद सेकंड में गूगल से कुछ भी पता कर लेते है , लेकिन बुजुर्गों से प्राप्त ज्ञान के साथ अनुभव, सीख और संस्कार कहाँ से लाएंगे । वो फुर्सत हमारी धरोहर थी ।

      हटाएं
  9. वाह कविवर...
    गज़ब का विश्लेषण किया है...

    उत्तर देंहटाएं

ab apki baari hai, kuchh kahne ki ...

orchha gatha

बेतवा की जुबानी : ओरछा की कहानी (भाग-1)

एक रात को मैं मध्य प्रदेश की गंगा कही जाने वाली पावन नदी बेतवा के तट पर ग्रेनाइट की चट्टानों पर बैठा हुआ. बेतवा की लहरों के एक तरफ महान ब...