बुधवार, 4 जुलाई 2012

कहाँ गया सावन ?

मित्रो ,
सावन ने दस्तक ने दस्तक दे दी है , मगर मन  है  कि मानने को तैयार ही नही है ! अरे सावन ऐसे आता है ? इस बार के सावन को देख कर लग रहा है, इन्द्र के यहाँ भी यूपीए कि सरकार बन गयी है. लगता है सावन भी घोटाले का शिकार हो गया है . अब प्रणब दा सरकार में रहे नही वरना  आंकड़े पेश करते और बताते आया सावन झूम के ! सचमुच किसानो की आँखों से आंसू टपकने  लगे .......फसलें सूखने की कगार पर आ  गयी है , तो दूसरी और असम में  ब्रम्हपुत्र  की बाढ़ से हजारो लोग त्राहि-त्राहि कर रहे  है 
कभी बाढ़ तो कभी सूखा
भारत  भूखा का भूखा  !
सावन का नाम सुनते ही बचपन की याद आने लगती है , बचपन में सिर्फ सावन के महीने  में ही खिलौने बिकते थे (तब चाईनीज खिलौने नही आते थे ). पूरी साल सावन का इन्तजार रहता था . खिलौनों की वैरायटी भी सीमित होती  थी .

13 टिप्‍पणियां:

  1. :-)

    भीगिये.....खूब भीगिये...

    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  2. सावन ने दस्तक दे दी,पर बारिश का तो पता नही
    अषाढ़ तो निकल गया, पर हरियाली का पता नही|

    MY RECENT POST...:चाय....

    उत्तर देंहटाएं
  3. उमस से बेहाल हुए जा रहें है ..डर है कहीं इन्द्र तक कोई पहुच गया हो और सावन न बरसने की फिक्सिंग हो गयी हो....देखते हैं कब तक ये राज खुल पाता है ..
    ..बढ़िया प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत मनमोहक झरना है... अभी पास होता तो हम भी धुड़े चले जाते ......यूँ उमस से बेहाल न होते ..

    उत्तर देंहटाएं
  5. उत्तर
    1. .मुझे भी शामिल करने के लिए शुक्रिया....शिवम् जी

      हटाएं
  6. सावन की दस्तक ...इन्तजार में बैठे थे जी

    उत्तर देंहटाएं

ab apki baari hai, kuchh kahne ki ...

orchha gatha

बेतवा की जुबानी : ओरछा की कहानी (भाग-1)

एक रात को मैं मध्य प्रदेश की गंगा कही जाने वाली पावन नदी बेतवा के तट पर ग्रेनाइट की चट्टानों पर बैठा हुआ. बेतवा की लहरों के एक तरफ महान ब...