मंगलवार, 16 जनवरी 2018

गया से राजगीर की राह.....

नमस्कार मित्रों,
 इस बार फिर से अपने ससुराल यानी गया से की गई यात्रा के बारे में आपको परिचित कराने जा रहा हूं जैसा की आप सभी को पता है कि मेरी पिछली यात्रा जो ससुराल से की थी, वह प्रसिद्ध दैनिक समाचार पत्र नई दुनिया में प्रकाशित हो चुकी है । आप इस लिंक पर क्लिक करके इस यात्रा को पढ़ सकते हैं। तो बात वर्ष 2017 के जून महीने की है । जब मैं अपनी पत्नी को छोड़ने गया गया । अपनी पिछली यात्राओं में मैं गया और बोधगया घूम चुका था इसलिए इस बार नालंदा और राजगीर भ्रमण का कार्यक्रम आनन-फानन में बनाया गया । और इस बार मैंने अपने साथ अपने बड़े साले ध्रुव उपाध्याय, जो कि दिल्ली में सिविल सर्विस की तैयारी कर रहे हैं को साथ लेकर उनकी बाइक से राजगीर और नालंदा नापने की तैयारी कर ली ।
                                            गया से राजगीर की दूरी गहलौर होकर 60 किलोमीटर है और उसके आगे नालंदा है । इसलिए हम लोग सुबह से ही बाइक से निकल पड़ी परंतु गया शहर में ही विष्णुपाद मंदिर के पास ही बारिश शुरू हो गई और हम लोगों को आसपास की दुकानों में शरण लेनी पड़ी । बारिश का होना हमारे लिए शुभ संकेत था क्योंकि अच्छे कार्यों में बाधा तो आती है । खैर एकाध घंटे के इंतजार के बाद बारिश थम गई और हमारी बाइक चल पड़ी । रास्ते में फल्गु नदी का पुल मिला । मोक्षदायिनी फल्गु जिसके किनारे पर लोग पितृ पक्ष में अपने पूर्वजों की मुक्ति के लिए पिंडदान करते हैं । फल्गु नदी एक बरसाती नदी है । इस में बरसात के बाद पानी ना के बराबर होता है, परंतु एक आश्चर्यजनक बात यह है कि ऊपर से सूखी देखने वाली फल्गु की रेत को जब खोदा जाता है, तो अंदर पानी अवश्य मिलता है । कहा जाता है कि माता सीता के श्राप से फल्गु का यह हाल हुआ । ऐसी जनश्रुति है कि जब भगवान राम माता सीता और भैया लक्ष्मण के साथ अपने पिता दशरथ जी का पिंडदान करने गया में आए तो माता सीता को फल्गु के तट पर छोड़कर पूजन सामग्री लेने चले गए । तभी पितर रूप में दशरथ जी आए और सीता जी से पिंड दान करने को कहा और  जल्दबाजी में सीता जी ने भगवान राम को ना आता देख कर रेत के पिंड बनाकर ही दशरथ जी को पिंडदान किए और उससे तृप्त होकर दशरथ जी मोक्ष को प्राप्त कर लिए । जब भगवान राम और लक्ष्मण पूजन सामग्री लेकर वापस लौटे तो सीता जी ने उन्हें पूरा किस्सा सुनाया । भगवान राम को इस बात पर विश्वास ही नहीं हुआ कि पिता श्री दशरथ रेत के पिंडदान से तृप्त होकर मोक्ष को प्राप्त कर गए । तब उन्होंने माता सीता से इस घटना के प्रत्यक्षदर्शियों और प्रमाण की बात कही । माता सीता ने 4 प्रत्यक्षदर्शियों को बताया । जिनमें पिंडदान कराने वाला ब्राह्मण, फल्गु नदी, पास में खड़ी गौमाता और दूब को प्रत्यक्षदर्शी बताया । दूब के अलावा ब्राह्मण फल्गु नदी और गौ माता सीता जी की बात से असहमत हुए । यह सुनकर सीता जी ने क्रोध में इन तीनों को श्राप दिया । उस पर आप के परिणाम स्वरुप ब्राह्मण चिरभिक्षुक हुए, फल्गु नदी अंतः सलिला बनी और गौ माता विस्टा खाने वाली । जबकि दूब किसी भी परिस्थिति में जीवित रहने का आशीर्वाद से लाभान्वित हुई । सूखी पड़ी फल्गु नदी में ट्रैक्टर और डंपर रेत खनन के कार्य लगे हुए थे ।                                                                 
                                                                           बारिश के बाद मौसम सुहाना हो चला था और नीलेआसमान में छोटे छोटे सफेद बादल बहुत खूबसूरत लग रहे थे । हम अपनी बाइक से मस्ती के साथ चले जा रहे थे । आगे गहलौर घाटी से गुजरे । गहलौर घाटी का नाम तो सुना ही होगा । माउंटेन मैन दशरथ मांझी ने इसी गहलौर घाटी में पहाड़ को अकेले चीरकर रास्ता बनाया । लोग कहते हैं कि भारत में प्रेम की सबसे बड़ी मिसाल शाहजहां और मुमताज के प्रेम की निशानी ताजमहल है । परंतु चौदहवी बार प्रसव पीड़ा के दर्द को झेलती हुई मुमताज मर जाती है और शाहजहां उसकी बहन से शादी कर लेता है । तो यहां कैसे सच्चा प्रेम हुआ ? मेरे विचार से तो सच्चे प्रेम की सबसे बड़ी निशानी यह गहलौर घाटी है जहां एक गरीब दशरथ मांझी अपनी पत्नी के प्रेम में पूरे पहाड़ को सिर्फ छैनी और हथोड़े से काट डालता है । इस प्रेम कहानी पर हिंदी फिल्म माउंटेन मैन भी बन चुकी है जिसमें नवाजुद्दीन सिद्दीकी ने दशरथ मांझी का किरदार बहुत ही अच्छे तरीके से निभाया है । आप में से कुछ लोगों ने यह फिल्म देखी ही होगी । क्षेत्र से गुजरने पर सीना गर्व से चौड़ा हो जाता है । समयाभाव में इस बार गहलोत घाटी को छोड़ कर हम प्राचीन मगध की राजधानी राजगृह की ओर चल पड़े...

अन्तः-सलिला फल्गु नदी 

और हम चल पड़े अपने दोपहिया से 

रास्ते के नजारे 




राजगीर का स्वागतद्वार 

शनिवार, 25 नवंबर 2017

देवगढ़ का अनमोल, अनछुआ प्राकृतिक खजाना !

 अद्भुत शिल्प और दशावतार मंदिर देवगढ़                                        

           पिछली पोस्ट में आपने पढ़ा कि  दशावतार मंदिर के अद्भुत शिल्प अंकन में हम इतना खो गए थे कि हमें न खुद की सुध बुध थी और ना ही अपनी भूख की । ऐसा लग रहा था कि मानो इन मंदिरों के शिल्प के साथ हम भी उस काल में पहुंच गए हो और मंदिर की भित्ति पर उत्कीर्ण प्रतिमाएं हम से साक्षात्कार कर रही हो और वह दृश्य हमारे सामने जीवित हो उठे हो । परंतु समय कब किसके लिए रुका है और यहां भी सूर्यदेव आकाश मार्ग में धीरे-धीरे अस्ताचल की ओर गमन करने लगे और हमें वर्तमान में ले आए । मैं और नयन सिंह जी भूख से बेहाल हो चुके थे, हालांकि साथ में ले आए सेव फलों (सेव फलों ने ही तो दुनिया में कई परिवर्तन ला दिए, न एडम वह स्वर्ग में सेव खाता और ना ही इस धरती पर हम इंसानों की दुनिया बसती । फिर न्यूटन महोदय के सर पर न पेड़ से सेव गिरता और ना वो गुरुत्वाकर्षण का नियम खोजते और ना ही आज विज्ञान इतनी तरक्की  कर पाता ।) हमारी भूख को कुछ तो राहत दी । अब हमारे खाए हुए सेवफल ने भी कम गुल नहीं खिलाए । 
दशावतार मंदिर को देखने के बाद हमने वहां के चौकीदार सीताराम तिवारी जी से यहां आस-पास और दर्शनीय स्थलों के बारे में जानकारी ली तो उन्होंने बताया यहां पर भगवान महावीर वन्य जीव अभ्यारण के अंदर एक जैन मंदिर, वराह मंदिर, सिद्ध की गुफा, नाहर घाटी, राज घाटी और बेतवा नदी का मनोरम दृश्य है । यह सभी सदियों पुराने हैं । इसके साथ ही बेतवा के किनारे पर प्राकृतिक चट्टानों से बने घाट पर चट्टानों की दीवारों पर कई प्रतिमाएं उकेरी गई हैं । ब्राह्मी लिपि में एक अभिलेख भी लिखा हुआ है । यह सुनकर हम अपनी पेट की भूख भूल गए और घुमक्कड़ी की भूख जाग उठी । सेव फल  अपना चमत्कार  दिखाने लगे और  देवगढ़  जहां हमें सिर्फ दशावतार मंदिर ही  खींच लाया  अब एक  नई दुनिया  से रूबरू होने वाले थे । अब हमारे पैरों में सनीचर हमें खुद ही उस जंगल की ओर बुलाने लगा । क्योंकि यह हमारे लिए अनजान जगह थी , इसलिए हमने सीताराम तिवारी जी से निवेदन करके उनके लड़के को अपने साथ एक मार्गदर्शक के रुप में ले लिया और हम चल पड़े जंगल की ओर । सबसे पहले हमने सबसे दूर वाली जगह जाने का निश्चय किया क्योंकि पहले वाली जगह देखने के चक्कर में अंधेरा हो सकता था और हम बाकी जगहों से मिलने से मरहूम हो सकते थे । पहाड़ी जंगलों के बीच पगडंडी नुमा सड़क पर हमारी Scorpio आराम-आराम से चली जा रही थी बीच-बीच में पेड़ पौधे झाड़ियां हमारा रास्ता रोकने की कोशिश भी कर रही थी, मगर हम उन्हें हटाते हुए अपनी मंजिल की ओर बढ़ रहे थे । कुछ दिन पहले हुई बरसात के कारण रास्ते में कीचड़ और गड्ढे भी थे । पर इन सब से बेपरवाह हम बढ़ते चले जा रहे थे , क्योंकि अगर हम रुकते तो सूर्य अस्त हो जाता और इस खजाने से वंचित हो जाते ।
                                          सबसे पहले हम नाहर घाटी पहुंचे और यहां बेतवा नदी का विहंगम दृश्य देखकर मन मयूर सा नाचने लगा । बेतवा नदी और मेरा रिश्ता तो आप मेरी  ओरछा गाथा सीरीज में  पढ़ ही चुके हैं । मुझे यहां आने के पहले यह नहीं पता था कि देवगढ़ भी बेतवा नदी के किनारे  बसा हुआ है । बेतवा का अपार चल देख कर  मन प्रसन्न हो गया । यहां पर  राजघाट बांध  के कारण  यह क्षेत्र डूब क्षेत्र  में आता है  इसलिए  यहां पर  बेतवा  अपनी अथाह जलराशि से  सागर जैसा  एहसास दिला रही थी । बीच में  टापू जैसी जगह पर  कुछ मकान दिख रहे थे  जो  मध्य प्रदेश  का एक गांव था । अर्थात बेतवा की तरफ  उत्तर प्रदेश और दूसरी तरफ मध्य प्रदेश  है । बेतवा  मध्य प्रदेश की  उत्तरी सीमा  बनाने में  सहायक है  विशेषकर  ललितपुर और झांसी जिलों में । नाहर घाटी के नाम में नाहर का अर्थ सिंह होता है, अतः नाम से लगता है कि कभी इन जंगलों में सिंह भी निवास करते रहे होंगे और हो सकता है इस घाट पर वह पानी पीने आते होंगे इसलिए इसका नाम नाहर घाटी पड़ा । यहां प्राकृतिक चट्टानों को काटकर सीढ़ियां बनाई गई थी और खड़ी चट्टानों की दीवारों पर छेनी और  हथोंडो से खोदकर शिवलिंग और अन्य प्रतिमाएं बनाई गई थी । जिन जगहों पर यह प्रतिमाएं बनाई गई थी वहां पहुंच पाना ही बहुत कठिन था न जाने कैसे शिल्पकारों ने यह अद्भुत कारीगरी की होगी । एक तरफ चट्टानों पर मनुष्य कलाकृतियां देख कर मन विस्मित था तो दूसरी तरफ बेतवा नदी के सुंदर रूप को देखकर प्रकृति की कलाकारी पर हमने दांतों तले उंगलियां दबा ली थी । इन नजारों को देख कर मन नहीं भर रहा था ऐसा लग रहा था कि घंटों इस जगह पर बैठकर प्रकृति और मनुष्य की कलाकारी को निहारते रहे । पर हमारे पास समय कम था अंधेरा होने को आ रहा था और हमें और भी स्थान देखने थे इसलिए हम वापस हुए । राज घाटी में भी शिवलिंग, सूर्य की प्रतिमा और अन्य कुछ प्रतिमाएं खड़ी चट्टानों पर उत्कीर्ण की गई थी यह भी बेतवा के तट पर बनी घाटी थी । 
                                              राज घाटी के बाद हम सिद्ध की गुफा पहुंचे। इस जगह खड़ी चट्टान को काटकर एक गुफा बनाई गई थी, जिसके आसपास महिषासुर मर्दिनी, शिव और अन्य देवी देवताओं की प्रतिमाएं उत्कीर्ण की गई थी । पास में ही ब्राह्मी लिपि में एक लेख लिखा हुआ था जो हमारी समझ से बाहर था। इसी के पास देवनागरी में भी एक लेख खुदा हुआ था जिसकी भाषा इसे बुंदेली शासकों की समय का बता रही थी । सिद्ध की गुफा देखने के पश्चात हम लोग वराह मंदिर की तरफ आए वराह मंदिर भी गुप्तकाल का एक मंदिर था जिसमें भगवान विष्णु के वराह अवतार की प्रतिमा विराजित थी । लेकिन चोरों द्वारा उस प्रतिमा को चुरा लिया गया परंतु उसे खंडित अवस्था में बरामद कर लिया गया और वह वर्तमान में भारतीय पुरातात्विक सर्वेक्षण के स्टोर रूम में धूल खा रही है । वराह मंदिर में वर्तमान में भग्नावशेष इसकी भव्यता का यशोगान गा रहे हैं। वराह मंदिर के पश्चात हमारी गाड़ी जैन मंदिर की ओर मुड़ चली । जैन मंदिर का वास्तुशिल्प और बनावट आठवीं नवी सदी के चंदेल कालीन मंदिरों का है । जैन समाज द्वारा इन मंदिरों की देखरेख की जाने के कारण इनकी स्थिति बहुत अच्छी है यहां पर जंगल में यत्र-तत्र बिखरी पड़ी जैन तीर्थंकरों की प्रतिमाओं को एकत्र करके एक ही परिसर में स्थापित किया गया है । मुख्य मंदिर के गर्भ गृह में जैन तीर्थंकर शांतिनाथ की प्रतिमा है । मंदिर परिसर में ही एक संग्रहालय बना हुआ है ,जहां पर सुरक्षा व्यवस्था के लिए पुलिस चौकी भी है, परंतु सूर्य अस्त हो जाने के पश्चात यह संग्रहालय बंद हो गया था, इस कारण हम इसके दर्शन नहीं कर पाए । सीताराम तिवारी जी के सुपुत्र ने हमें एक नई जानकारी दी, कि देवगढ़ के इन जंगलों में हाल में ही भगवान बुद्ध से संबंधित बहुत सारी प्रतिमाएं और अवशेष खोजे गए हैं, जिन पर अभी शोध चल रहे हैं. हालांकि घने जंगल में होने के कारण हम उनका फिलहाल मोह त्याग कर वापस लौटने का विचार बनाएं । वैसे भी अब वापसी की बेला हो चली थी और जठराग्नि भी प्रज्वलित हो रही थी । लौटते में देवगढ़ कस्बे में स्थित जैन धर्मशाला की स्थिति देखने हम लोग पहुंचे जहां पर 300 रुपये और 500 रुपये के दो प्रकार के कमरे बने हुए थे और व्यवस्था बहुत अच्छी थी । साथ ही शाकाहारी भोजन की भी सुलभता थी । अर्थात यहां आराम से रात गुजारी जा सकती है और हमने निश्चय किया कि कभी परिवार सहित यहां अवश्य आएंगे और एक रात्रि विश्राम करके आराम से और विस्तार से देवगढ़ का भ्रमण किया जाएगा । देवगढ़ के पास ही रणछोड़ धाम भी एक दर्शनीय स्थल है जहां भगवान श्री कृष्ण ने कालिया यवन का वध किया था और यहीं पर वह रणभूमि छोड़कर भागे थे जिस कारण उनका नाम रणछोड़ पड़ा। चूंकि रात्रि हो चुकी थी।  अतः हमने वापसी में ही भलाई समझी और रणछोड़ धाम को दोबारा आने का एक निमित्त बनाकर अपने धाम को लौटने का विचार किया । देवगढ़ जाने के लिए नजदीकी रेलवे स्टेशन ललितपुर है और ललितपुर सड़क मार्ग द्वारा भी देश के बाकी हिस्सों से जुड़ा हुआ है ।
हम चल पड़े प्रकृति की ओर 

नयन सिंह जी और उनकी स्कार्पियो 
बेतवा की पहली झलक (मेरे और माँ बेतवा के सम्बन्ध तो आप जानते ही है )
इस नजारे ने तो दिल चुरा लिया 
खड़ी चट्टानों को काटकर बनाई गयी सीढिया 
नदी किनारे खड़ी चट्टानों को काटकर कैसे मूर्ति बनायीं गयी होगी ?
सप्तमातृकाएं और गणेश का  साहसिक शिल्पांकन 
शिवलिंग 
भगवान भास्कर 
कुदरत की कलाकारी 
ये अभिलेख भी हमें प्राप्त हुआ।  हालाँकि पल्ले कुछ भी नहीं पड़ा 
सिद्ध गुफा 
महिषासुर मर्दिनी का सुन्दर शिल्पांकन 
इन किंगफिशर जनाब के काम में हमने शायद खलल डाल दिया 
प्रकृति की इस अद्भुत चित्रकारी को हमने अपने कैमरे में कैद किया 
वराह मंदिर के भग्नावशेष 
जैन तीर्थंकर शांतिनाथ मंदिर 
प्राचीन जैन मंदिर (नागर शैली )
मंदिर परिसर में स्थापित की गयी अन्य तीर्थंकरों की प्रतिमाएं 
अच्छा तो अब चलते है 

बुधवार, 25 अक्तूबर 2017

अद्भुत शिल्प और दशावतार मंदिर देवगढ़

देवगढ़ का दशावतार मंदिर 

कुछ यात्राएं नियति द्वारा निर्धारित होती है।  इसी तरह मेरी देवगढ़ (जिला ललितपुर , उत्तर प्रदेश ) की यात्रा रही।  हुआ यूँ , कि 9 अक्टूबर 2017 को  सुबह 10 बजे के लगभग मेरे घुमक्कड़ मित्र और उत्तर प्रदेश पुलिस में दरोगा श्री नयन सिंह जी का कॉल आया और वो ललितपुर जिले के देवगढ़ कसबे जाने की चर्चा करने लगे।  अब इतिहास में गुप्तकालीन देवगढ़ के दशावतार मंदिर को न जाने कितनी बार पढ़ा होगा ! और यह मेरे विश लिस्ट में भी था।  नयन जी ने अगले दिन जाने की बात कही , लेकिन कल किसने देखा ? मैंने बिना समय गंवाए उनसे आज ही चलने का अनुरोध किया।  नयन जी भी तैयार हो गए।  फिर क्या अगले एक घंटे में वो झाँसी से अपनी स्कॉर्पियों से ओरछा स्थित मेरे घर के सामने थे।  नयन जी के पैरों में तकलीफ थी , लेकिन जब पैरों में सनीचर चढ़ जाये तो फिर कुछ नहीं सूझता है। हम निकल पड़े बिना खाये-पिए अपनी मंजिल देवगढ़ की ओर .... 
                                        हम सीधे ललितपुर पहुंचने पर ही रुके , ललितपुर में प्रवेश के पूर्व निरंजन चाय वाले की प्रसिद्ध चाय पीने रुके।  भूख लग आई थी, लेकिन घुमक्क्ड़ी की भूख के आगे सब भूल हमारी सवारी चलती रही।  अभी तक तो फोरलेन (राष्ट्रिय राजमार्ग क्रमांक -26 ) की शानदार सड़क थी, लेकिन अब ललितपुर से देवगढ़ तक का 35 किमी की दूरी सड़क निर्माण कार्य प्रगति पर होने से हमारे वाहन की गति दुर्गति पर आ गयी।  लगभग 3 बजे हम लोग देवगढ़ की पुण्यभूमि पर पहुंचे।
                                  वैसे देवगढ़ बेतवा नदी किनारे बसा छोटा सा क़स्बा है , जो भगवान महावीर वन्यजीव अभ्यारण्य के अंतर्गत आता है।  कसबे में प्रवेश करते ही हमे दशावतार मंदिर का बोर्ड दिखा तो हमारी गाड़ी के पहिये वही थम गए।  दशावतार मंदिर भारतीय पुरातात्विक सर्वेक्षण (ASI ) के सरंक्षण में होने से थोड़ा व्यवस्थित था।   हमें सबसे पहले चौकीदार सीताराम तिवारी मिले , जो स्थानीय निवासी भी थे , और हमारा परिचय जानने के बाद हमें बड़े ही आदर के साथ मंदिर दिखाने चल पड़े । दशावतार मंदिर भारतीय इतिहास में स्वर्ण काल के रूप में प्रसिद्ध गुप्त काल मैं बनी हुई एक बहुत ही अद्भुत कारीगरी वाली देवालय की इमारत है । इस इमारत को देख कर लगता ही नहीं कि यह उत्कृष्ट कारीगरी छठवीं सदी में की गई है, यानी कि आज से 1400 वर्ष पूर्व जब पत्थरों पर कारीगरी
सिर्फ छैनी और हथौड़ों से होती थी ।
                                        दशावतार मंदिर पंचायतन  शैली में निर्मित मंदिर था जिसमें चार कोनों पर स्थित मंदिरों के सिर्फ अवशेष  देखने को मिलते हैं और मुख्य मंदिर का शिखर भी ध्वस्त अवस्था में है । सामने से देखने पर ऐसा प्रतीत होता है कि मंदिर के शिखर को तोप के गोले से नष्ट करने का प्रयास किया गया है ,परंतु यह प्रयास पूरी तरह सफल नहीं हो सका । मंदिर का द्वार 5 शाखाओं में अनुपम शिल्पाकृतियों से सुसज्जित है । द्वार के सिरदल पर शेषनाग के आसन पर विराजमान विष्णु की प्रतिमा उत्कीर्ण है जिससे पता चलता है कि यह मंदिर भगवान विष्णु को समर्पित है, हालांकि गर्भ गृह में भगवान की कोई मूर्ति वर्तमान में नहीं है । गर्भगृह की मुख्य मूर्ति को या तो नष्ट कर दिया गया होगा या फिर चोरी कर ली गई होगी । गर्भ ग्रह की मुख्य मूर्ति के नीचे के भाग में जलहरी बनी हुई है, जिस से कई लोग इसे भगवान शिव का मंदिर बताते हैं । लेकिन सिर दल की विष्णु प्रतिमा और देवगढ़ में ही स्थित वराह मंदिर में बनी हुई जलहरी से स्पष्ट होता है कि यहां पर भगवान विष्णु का ही मंदिर था । अगर हम गुप्त शासकों के द्वारा बनवाए गए अन्य मंदिरों का भी अध्ययन करें तो पता चलता है कि गुप्त शासक भगवान विष्णु के उपासक थे और उनका राजकीय चिन्ह भी गरुड़ था । मुख्य द्वार के कोनों पर गंगा और यमुना जलपात्र लिए हुए खड़ी हैं । सूर्य और चंद्रमा भी द्वार पर अंकित है । द्वार के ऊपरी हिस्से मैं सिंह के मुख की आकृति में कीर्तिमुख की कतारबद्ध आकृतियां उत्कीर्ण है । इस मंदिर के द्वार में मैथुन प्रतिमाएं भी उत्कीर्ण की गई है । 
                                           गर्भ गृह  में कोई मूर्ति ना होने की वजह से हम उसका विश्लेषण और अध्ययन नहीं कर सकते इसलिए द्वार के पश्चात हम मंदिर की बाई दीवाल पर बने हुए शिल्प का अवलोकन करते हैं । इस दीवार पर बने हुए शिल्प को देखते ही मन प्रसन्न हो जाता है । यहां पर शिल्पी ओने जीवंत चित्रण करते हुए गजेंद्र मोक्ष नामक पौराणिक कथा का प्रतिमा रूप में अद्भुत अंकन किया है । इस प्रतिमा में न केवल शारीरिक अनुपात का सूक्ष्मता से ध्यान दिया गया है, बल्कि भाव भंगिमाएं भी इतनी अच्छी तरीके से निरूपित की गई है ,कि लगता है कि यह प्रतिमाएं तुरंत बोल उठेंगी । जल में फंसे हुए गज की स्थिति को इस तरह निरूपित किया गया है,  कि उसके मुख पर भी कष्ट  का प्रभाव सहज ही दिखाई दे रहा  हैं । यहां तक कि जिस जलस्रोत में वह फसा है, उस की लहरें और उसमें खिले हुए कमल के पुष्प लहरों की गति अनुसार निरूपित किए गए हैं । भगवान विष्णु और उनके वाहन गरुड़ की भाव-भंगिमाएं यह बताती हैं, कि वह कितनी जल्दबाजी में अपने भक्तों को बचाने के लिए दौड़े चले आए। तत्परता में वह अपना मुकुट भी भूल आए जिसे लेकर उनके सेवक गण पीछे से आए इस बात को भी शिल्प में प्रमुखता से स्थान दिया गया है । सामान्यता हमने गजेंद्र मोक्ष की कथा में भगवान विष्णु द्वारा गज को ग्राह या मगर से बचाते हुए देखा सुना है । लेकिन यहां पर ग्राह्य मगर की जगह नाग और नागिन दिखाए गए हैं । भगवान विष्णु द्वारा छोड़े गए सुदर्शन चक्र को नाग के सीने के मध्य में धंसा हुआ दिखाया गया है । इतिहास के कई जानकारों से जब ग्राह की जगह नाग  के होने के संबंध में चर्चा की तो यह बात सामने आई , कि वास्तव में ग्राह के रूप में एक असुर था जो रूप बदलने में माहिर था , इसलिए कई स्थानों पर उसे मगर तो कुछ स्थानों पर नाग और कुछ स्थानों पर कच्छप के रूप में भी दर्शाया गया है । इस  पाषाण प्रतिमा को देखकर मस्तक गर्व से और ऊंचा हो गया कि आज से 14 सौ वर्ष पूर्व हमारे शिल्पी इतने प्रतिभावान थे कि इस तरह की प्रतिमा को उत्कीर्ण कर सके । जबकि आज तमाम तकनीकी अविष्कार होने के बाद भी मैडम तुसाद वाले मोम के पुतले भी नकली लगते हैं । इस प्रतिमा के आसपास सजावट के लिए नाग वल्लरियों का भी सुंदर प्रयोग हुआ है ।
                     मंदिर के पीछे की दीवाल पर नर और नारायण की प्रतिमा उत्कीर्ण की गई है जिसमें इनके साथ शिव ब्रह्मा आदि देवताओं के अलावा स्वर्ग और अन्य विषयों का भी शिल्पा अंकन किया गया है निर्माण की दृष्टि से इस प्रतिमा की श्रेष्ठता में भी कोई कमी निकालना मुश्किल है । यहां तक कि प्रतिमा के वस्त्रों का अंकन भी बहुत अच्छी तरह से किया गया है । नर नारायण की प्रतिमा के ऊपर की ओर आम्र पल्लवों काफी सुंदर अंकन है । इस दीवार पर एक ओर गजलक्ष्मी का भी सुंदर अंकन है ।
                        अब चलते हैं , मंदिर की दाहिनी दीवाल पर बने हुए प्रतिमा शिल्प की ओर... यह प्रतिमा दशावतार मंदिर की सबसे सुंदर और महत्वपूर्ण शिल्प आकृति  है । इसी शिल्प की वजह से यह मंदिर प्रसिद्ध भी है । इस शिल्प में  भगवान विष्णु को शेषशाई मुद्रा में दिखाया गया है । भगवान की नाभि से निकले कमल पर ब्रह्मा जी विराजमान हैं ,जिसे पद्मनाभ अवस्था भी कहा जाता है । भगवान विष्णु का अभिनंदन करने के लिए भगवान शिव अपने नंदी पर पार्वती सहित  दौड़े चले आ रहे हैं । शिल्प की आकृति नंदी के वेग  को बखूबी प्रदर्शित कर रही है । ब्रह्मा जी के दूसरी ओर ऐरावत पर विराजमान इंद्र और अपने मयूर वाहन पर विराजमान स्वामी कार्तिकेय भी प्रदर्शित हैं । अब अगर मुख्य प्रतिमा की बात की जाए तो भगवान विष्णु शेषनाग की शय्या पर एक हाथ सर पर लगाए हुए लेटे हैं । भगवान की शरीरों का अंकन और उनके शरीर से शेषनाग पर पड़ने वाले दबावों को बहुत ही सुंदर तरीके से प्रदर्शित किया गया है । भगवान विष्णु की पत्नी लक्ष्मी भगवान विष्णु के चरण दबा रही हैं , और उनके हाथों से पड़े हुए दबावों को भी भगवान के चरणों पर स्पष्ट देखा जा सकता है । इस मुख्य प्रतिमा के नीचे एक और कथानक को प्रदर्शित किया गया है जो कि महाभारत काल से संबंधित है । इसमें पांच पांडव और द्रौपदी का अंकन है । दुर्योधन के खून से अपने केशों को धोने का संकल्प लिए हुए द्रोपदी खोलें केश पकड़े हुए हैं । युधिष्ठिर अर्जुन और भीम के चेहरे मिलते हुए प्रतीत होते हैं जिस से पता चलता है कि वह एक ही मां की संतान हैं, जबकि नकुल और सहदेव इनके चेहरे अलग ही देखने के कारण पता चलता है कि इनकी माता दूसरी थी ।
               दशावतार मंदिर के शिल्प को देखने के बाद काफी समय इन में खोया रहा और इन शिल्पियों की तारीफ में जितने भी शब्द कहे जाएं बहुत कम हैं। आज भी वर्तमान के शिल्पी इनसे बहुत ही पीछे हैं । प्रतिमाओं में शारीरिक अनुपात वस्त्रों का अंकन और उन सब से भी बढ़कर चेहरे पर भाव भंगिमाएं इतनी अच्छी तरह से कर पाना यह भारतीय स्थापत्य और शिल्प की उत्कृष्टता का प्रमाण है ।  हमें देवगढ़ में सिर्फ दशावतार मंदिर के बारे में ही जानकारी थी और इसे ही देखने हम भागे चले आए थे । लेकिन लेकिन जब सीता राम तिवारी जी ने बताया कि यहां पर अभ्यारण के अंतर्गत आठवीं नवी सदी के जैन मंदिर, गुप्त काल का ही वराह मंदिर, सिद्ध गुफा ,नाहर गुफा, राज गुफा और बेतवा का मनोरम तट  भी दर्शनीय है । तो यह हमारे लिए एक बोनस पॉइंट की तरह था ,कि कहां हम रत्न को देखने आए थे और हमें खजाना ही मिल गया।  सूर्य धीरे-धीरे अस्तांचल गामी हो रहे थे।  भूख भी तेज लगी थी।  समयाभाव में हमने क्या किया ? और इस खजाने के बारे में आप अगली पोस्ट में पढ़िए ।
तब तक आप इन चित्रों को देखिये और हमारे प्राचीन शिल्प पर गर्व कीजिये
मंदिर का कलात्मक द्वार 
द्वार के सिरदल पर भगवान विष्णु 
स्वागत में मकरवाहिनी गंगा 
कच्छप वाहिनी यमुना स्वागत द्वार पर 
स्वागत द्वार के अन्य शिल्प 
गजेंद्र मोक्ष का अद्भुत शिल्पांकन 
नर-नारायण और अन्य देवतागण 
गजलक्ष्मी 
शेषशायी और पद्मनाभ भगवान विष्णु और अन्य देवगण 
बांये से नयन जी , मैं और सीताराम तिवारी 

मंगलवार, 24 अक्तूबर 2017

ओरछा का सुन्दर पक्षी संसार

मानव के मन को पक्षी हमेशा से आकर्षित करते रहे है।  इन्ही पक्षियों को देखकर मानव ने उड़ने के स्वप्न देखे जो आज हवाई जहाज , हेलीकाप्टर आदि के रूप में साकार हुए है।  पक्षियों को लेकर साहित्य में न जाने कितने काव्य और कहानियां लिखी गयी।  भारत में कविता का उदय बाल्मीकि क द्वारा क्रोच पक्षी को देखकर ही तो हुआ था।  तोता-मैना की कहानिया सदियों तक लोगो का मन बहलाती रही।  कबूतरों ने सन्देश वाहको का कार्य किया तो बाज़ शिकार में सहायक हुए।  तोते का महत्त्व भारतीय माइथोलॉजी में कितना है , कि एक ऋषि का नाम ही शुक देव मुनि है।  भगवान राम की सहायता भी जटायु नामक गिद्ध ने की।  काकभुशुण्डि के रूप में कौए इ ऋषि का स्थान पाया।  कृष्ण ने तो मयूरपंख को शिरोधार्य किया।  हमारे देवी देवताओं ने  वाहन के रूप में पक्षियों का साथ पसंद किया।  जहाँ सरस्वती माता ने हंस , लक्ष्मी जी ने उल्लू , कार्तिकेय ने मयूर तो शनि देव ने कबूतर को अपना वाहन बनाया।  जब पक्षियों को देवताओं ने इतना चाहा है , तो हम मनुष्य पीछे क्यों रहे ? आज मैं आपको ओरछा अभ्यारण्य में पाए जाने वाले रंग-बिरंगे पक्षियों से मिलवाता हूँ। 
                                                   ओरछा वैसे तो रामराजा मंदिर के साथ ही अपनी ऐतिहासिक विरासत के लिए देश-विदेश में ज्यादा प्रसिद्द है।  लेकिन  ओरछा वन्यजीव अभ्यारण्य में पक्षी प्रेमियों के लिए भी यह कम महत्वपूर्ण स्थल नहीं है।  यहां देशी पक्षियों के अतिरिक्त प्रवासी पक्षी भी देखने मिल जाते है।  तो चलिए आज आपको ओरछा के पक्षी परिवार से मिलवाते है।
गिद्ध की परवाज़ 

ओरछा अभ्यारण्य 
ओरछा अभ्यारण मध्यप्रदेश के टीकमगढ़ जिले में उत्तर प्रदेश की सीमा से लगा हुआ है । यह अभ्यारण बेतवा और जामनी नदी के बीच में स्थित टापू पर बसा हुआ है । दोनों नदियों के बीच में होने के कारण पूरा अभ्यारण्य वेटलैंड है , इस कारण  यहां पक्षियों के लिए आदर्श वातावरण है।  यह लगभग 45  वर्ग किलोमीटर के क्षेत्रफल में स्थापित है । इसकी स्थापना 1994 में की गई थी । ओरछा अभ्यारण्य में सियार ,लकड़बग्घा ,भेड़िया ,नीलगाय ,सांभर ,चीतल ,बंदर ,लंगूर ,जंगली सूअर आदि वन्य जीव है । परंतु ओरछा अभ्यारण मुख्यतः पक्षियों के लिए प्रसिद्ध है । यहां देश विदेश से पक्षी प्रेमी सर्दियों में पक्षियों को देखने और उनकी फोटोग्राफी करने के लिए आते हैं ।

छतरियों पर आराम करते गिद्ध 
अभ्यारण्य में पायें जाने वाले पक्षी
ओरछा में लगभग 200 प्रजाति के पक्षी पाये जाते हैं, जिनमे प्रमुख हैं । कार्मोरेंट, डार्टर , ग्रे हेरॉन, पोंड हेरॉन , एरगेट , ब्रह्मिनी डक , बार-हेडेड गूज , ब्लैक विंग्ड काइट , शिकरा ,ईगल , वाइट ब्रेस्टेड वाटरमेन , जकाना ,कॉमन ग्रे हॉर्नबिल,  कॉपर स्मिथ बारबेट, कॉमन स्वालो रेड रेमपेड, गोल्डन ओरियल, ग्रे वैगटेल, दूधराज, मोर ,बुलबुल ,नीलकंठ, किंगफिशर, जल मुर्गी ,बगुला ,गौरैया, बयां ,रॉबिन ,बबलर ,कठफोड़वा, मैना ,पहाड़ी मैना, हुदहुद, हॉक कुक्कू, कोयल, पपीहा, तोता, सनबर्ड ,उल्लू, चील ,बाज़ आदि पक्षी प्रमुख रूप से पाए जाते हैं ।
कॉमन स्टोन चैट 

ओरछा में गिद्ध
 ओरछा प्रमुख रुप से गिद्धों के लिए प्रसिद्ध है । ओरछा की ऐतिहासिक इमारतों के शिखर गिद्धों क रहने के लिए उपयुक्त जगह है।  इसलिए ओरछा में छतरिया , जहांगीर महल के गुम्बद और चतुर्भुज मंदिर का शिखर गिद्धों के प्रिय आवास स्थल है।   एक तरफ जहां पूरी दुनिया में गिद्ध  खत्म हो रहे हैं ,वही ओरछा में चार प्रजाति के गिद्ध पाए जाते हैं ।
लॉन्ग बिल्ड वल्चर का जोड़ा 

1 लांग बिल्ड वल्चर (gyps indicus )
भारत में सबसे ज्यादा पाए जाने वाले गिद्धों में लौंग बिल्ड वल्चर है।  यह ओरछा में स्थित ऐतिहासिक इमारतों और पहाड़ों की कंदराओं में पाए जाते हैं । यह ज्यादा तर लंबी उड़ान भरते हैं और जमीन पर धीरे-धीरे बतख की तरह चलते हैं और झुक कर बैठते हैं । इनके पैरों की ऊपरी भाग पर सफेद व नर्म पंख होते हैं । नंगी एवं पंख रहित गर्दन के निचले हिस्से पर नरम हल्के भूरे श्वेत पंखों की कॉलर सी होती है। नर और मादा एक समान होते हैं ।
गोबर गिद्ध या कॉल गिद्ध 
2 गोबर गिध्द या कोल गिद्ध ( Neophron percnopterus /Egyptian culture)
यह गिद्ध अपने घोंसले चट्टानों पेड़ों और पुराने भवनों पर बनाता है । यह डील से आकार में मिलता जुलता है इसके पंख सफेद होते हैं जो किनारों पर काले होते हैं । चेहरा छोटा रोंएदार और पीले रंग का होता है सोच बदली पीलिया ग्रे रंग की होती है । बच्चे काले रंग के होते हैं ।
3 चमड़ गिद्ध/भारतीय सफेद गिद्ध (Oriental white backed Vulture)
रात्रि निवास ऊंचे वृक्षों और ऊंची ऐतिहासिक इमारतों में करने वाला इस गिद्ध का सर्वप्रमुख भी हुआ गला पतला होता है पीठ पर एक सफेद चिन्ह रहता है, जो उड़ते समय दिखाई देता है यही इसकी मुख्य पहचान है ।
4 राज गिद्ध/किंग वल्चर (Red headed Vulture )
इसका सिर टांग गर्दन और सीना लाल रंग के होते हैं । लाल और काली पंखों के बीच सफेद पंखों की पट्टी होती है, शेष शरीर काला होता है । यह दूसरे गिद्धों की तुलना में डरपोक होता है यह मृत जानवर भी बाकी गिद्धों के जाने के बाद खाते हैं और मनुष्यों को देखकर उड़ जाते हैं ।
वाइट ब्रेस्टेड किंगफ़िशर 

ओरछा में बर्ड वॉचिंग के लिए व्यवस्था -
ओरछा अभ्यारण्य के प्रभारी रेंजर आशुतोष अग्निहोत्री ने बताया कि अभ्यारण में वर्ड वाचिंग के लिए अलग से जंतुर टावर बनाया गया है, जिसके ऊपर खड़े होकर अभ्यारण में मिलने वाले विभिन्न पक्षियों को ना केवल देखा जा सकता है बल्कि उनकी फोटोग्राफी भी की जा सकती है । यहां पर कई पक्षी प्रेमी दूरबीन की सहायता से घंटो पक्षियों को निहारते हैं । पक्षियों को देखने के लिए ओरछा अभ्यारण कार्यालय से दूरबीन की भी व्यवस्था की जाती है । ओरछा में गिद्धों के संरक्षण के लिए जटायु संरक्षण केंद्र भी स्थापित किया है , जो गिद्ध संरक्षण के लिए समय -समय पर जान जागरूकता फैलाता है।  भविष्य में गिद्धों के लिए ' वल्चर रेस्टोरेंट ' बनाया जाना प्रस्तावित है , जिसमे एक नियत स्थान पर आसपास के गाँवो में मरे पशुओं को लेकर गिद्धों के लिए रखा जायेगा। यदि कोई भी पर्यटक या पक्षी प्रेमी अभ्यारण्य केंद्र से संपर्क करता है , तो अभ्यारण्य की ओर से एक वनरक्षक कम गाइड भी उपलब्ध कराया जा सकता है।  पक्षियों को देखने का सबसे बढ़िया समय सूर्योदय के थोड़े पहले और सूर्यास्त के समय का है।   
स्थानीय पक्षी प्रेमी रामा मुकेश केवट ने बताया की ओरछा अभ्यारण जो कि दोनों ओर से बेतवा और जामिनी नदियों से घिरे होने के कारण पक्षियों को देखने के लिए एक आदर्श स्थान हैं । ओरछा अभ्यारण्य के अलावा ओरछा में पक्षी पुराने स्मारकों और महलों के शिखरों पर भी देखने मिलते है।  रामा मुकेश स्वयं अभी तक ओरछा में लगभग 135 पक्षियों की पहचान कर चुके हैं और उनके संग्रह में उनकी फोटोग्राफ्स भी हैं ।
बयाँ अपने सुन्दर घोंसले के साथ 
ब्लू रॉक पिजन 

कॉमन मैना 

रोज रिंग्ड पैराकीट 
एशियाई पाइड स्टर्लिंग 

लार्ज एर्गेट 
ओरिएण्टल मैगपिगी रोबिन 
ओरछा पहुंचने के लिए नजदीकी बड़ा शहर झांसी है, जो संपूर्ण देश में सड़क और रेल मार्गों से जुड़ा हुआ है ओरछा से झांसी की दूरी मात्र 18 किलोमीटर है । इसके अलावा ओरछा में रामराजा मंदिर कई ऐतिहासिक इमारतें बेतवा नदी में रिवर राफ्टिंग कयाकिंग नौकायन आदि कि सुविधाएं भी देशी विदेशी पर्यटकों को आकर्षित करती हैं ।

- मुकेश पाण्डेय
आबकारी कार्यालय ,GT -2  राजघाट कॉलोनी ,
ओरछा , जिला -टीकमगढ़ (मध्य प्रदेश )
मोबाइल नंबर  9039438781
ईमेल - mp 5951 @gmail.com 

orchha gatha

बेतवा की जुबानी : ओरछा की कहानी (भाग-1)

एक रात को मैं मध्य प्रदेश की गंगा कही जाने वाली पावन नदी बेतवा के तट पर ग्रेनाइट की चट्टानों पर बैठा हुआ. बेतवा की लहरों के एक तरफ महान ब...