सोमवार, 13 जुलाई 2009

प्रेम मर रहा है !

आज क्षितिज सा हुआ प्यार
बस भ्रम मिलन का बचा संसार
गगन छू रहा है बसुधा को
पर यथार्थ विरह है सर्वदा को
अब बची कहाँ प्रतीक्षा मिलन की
बस क्षुधा ही क्षुधा है तन की
दूषित हो चुकी है हर भावना
कहाँ है पवित्रता की सम्भावना
नही है यहाँ विरह की वेदना
मर चुकी जहाँ प्रेम की संवेदना
प्रिय की कमी नही है जीवन में
कमी है तो प्रेम की हर मन में
प्रेम मर रहा ही कोई सुने पुकार
बस भ्रम मिलन का बचा संसार
आपका अपना मुकेश पाण्डेय "चंदन "

6 टिप्‍पणियां:

  1. यहाँ जिन्दगी तभी बचेगी अगर बचेगा प्यार।
    नहीं मरा है नहीं मरेगा यह जीवन का सार।।

    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    www.manoramsuman.blogspot.com
    shyamalsuman@gmail.

    उत्तर देंहटाएं
  2. एक आशावादी सोच के लिए सुमन जी बधाई के पात्र है . ऐसी ही लोगो के कारन आज प्यार बचा है .

    उत्तर देंहटाएं
  3. प्यार कभी मरता नहीं, हम तुम मरते हैं..

    उत्तर देंहटाएं
  4. gustakh ji !प्यार अमर है अमर रहेगा , हम तो आज की पीढी की बात कह रहे थे. आज भी कई सच्चे प्रेमी है .

    उत्तर देंहटाएं
  5. बस भ्रम मिलन का बचा संसार
    bahut khoob

    उत्तर देंहटाएं

ab apki baari hai, kuchh kahne ki ...

orchha gatha

बेतवा की जुबानी : ओरछा की कहानी (भाग-1)

एक रात को मैं मध्य प्रदेश की गंगा कही जाने वाली पावन नदी बेतवा के तट पर ग्रेनाइट की चट्टानों पर बैठा हुआ. बेतवा की लहरों के एक तरफ महान ब...